दोहा 55

पुरखों की तस्वीर गले में वाहिद बनी दलील

सारे घर का मान सँभाले एक अकेली कील

  • शेयर कीजिए

बदन अँधेरी कोठरी खोजो दिया-सलाई

'अनस' जगाओ चेतना रौशन करो ख़ुदाई

  • शेयर कीजिए

मज़हब ने जो ठोंक दी हिली नहीं वो कील

क़ुदरत हर मख़्लूक़ को रोज़ करे तब्दील

  • शेयर कीजिए

रूह बदन के साथ थी जग ने दे दी ताप

पानी नीचे रह गया ऊपर उड़ गई भाप

  • शेयर कीजिए

हर करवट पर हलचल होए मन भी आपा खोए

कौन बसा है मेरे अंदर खनन खनन खन होए

  • शेयर कीजिए

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • तिलोकचंद महरूम तिलोकचंद महरूम
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई