noImage

सरदार गेंडा सिंह मशरिक़ी

1857 - 1909

सरदार गेंडा सिंह मशरिक़ी के शेर

1K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

खोला दरवाज़ा समझ कर मुझ को ग़ैर

खा गए धोका मिरी आवाज़ से

फाड़ कर ख़त उस ने क़ासिद से कहा

कोई पैग़ाम-ए-ज़बानी और है

आशिक़-मिज़ाज रहते हैं हर वक़्त ताक में

सीना को इस तरह से उभारा कीजिए

शैख़ चल तू शराब-ख़ाने में

मैं तुझे आदमी बना दूँगा

पीते हैं जो शराब मस्जिद में

ऐसे लोगों को पारसा कहिए

जो मुँह से कहते हैं कुछ और करते हैं कुछ और

वही ज़माना में कुछ इख़्तियार रखते हैं

डराएगी हमें क्या हिज्र की अँधेरी रात

कि शम्अ' बैठे हैं पहले ही हम बुझाए हुए

गो हम शराब पीते हमेशा हैं दे के नक़्द

लेकिन मज़ा कुछ और ही पाया उधार में

तुम जाओ रक़ीबों का करो कोई मुदावा

हम आप भुगत लेंगे कि जो हम पे बनी है

भूल कर ले गया सू-ए-मंज़िल

ऐसे रहज़न को रहनुमा कहिए

तिरा आना मिरे घर हो गया घर ग़ैर के जाना

मुझे मालूम थी इस ख़्वाब की ता'बीर पहले से

चलो मुझ से तुम रक़ीबो चाल

उँगलियों पर तुम्हें नचा दूँगा

ज़ाहिद मिरी समझ में तो दोनों गुनाह हैं

तू बुत-शिकन हुआ जो मैं तौबा-शिकन हुआ

जब बोसा ले के मुद्दआ' मैं ने बयाँ किया

बोले ज़ियादा पाँव पसारा कीजिए

चाहने वालों को चाहा चाहिए

जो चाहे फिर उसे क्या चाहिए

काली घटा कब आएगी फ़स्ल-ए-बहार में

आँखें सफ़ेद हो गईं इस इंतिज़ार में

एक तीर-ए-नज़र इधर मारो

दिल तरसता है जाँ तरसती है

एक मुद्दत में बढ़ाया तू ने रब्त

अब घटाना थोड़ा थोड़ा चाहिए

ज़ाहिद नमाज़ भूला इधर देख कर तुझे

बरहम बुतों से अपने उधर बरहमन हुआ

आगे मेरे तीखी मार शैख़

रात का माजरा सुना दूँगा

लटकते देखा सीने पर जो तेरे तार-ए-गेसू को

उसे दीवाने वहशत में तिरा बंद-ए-क़बा समझे

गरेबाँ हम ने दिखलाया उन्हों ने ज़ुल्फ़ दिखलाई

हमारा समझे वो मतलब हम उन का मुद्दआ' समझे

हैं वही इंसाँ उठाते रंज जो होते ही कज

टेढ़ी हो कर डूबती है नाव अक्सर आब में

धर के हाथ अपना जिगर पर मैं वहीं बैठ गया

जब उठे हाथ वो कल रख के कमर पर अपना

किस से दूँ तश्बीह मैं ज़ुल्फ़-ए-मुसलसल को तिरी

फ़िक्र है कोताह और मज़मूँ बहुत है दूर का

शैख़ अपना जुब्बा-ए-अक़्दस सँभालिये

मस्त रहे हैं चाक गरेबाँ किए हुए

मज़ा देखा किसी को परी-रू मुँह लगाने का

अब आईना भी कहता है कि मैं मद्द-ए-मुक़ाबिल हूँ

ख़याल-ए-नाफ़ में ज़ुल्फ़ों ने मुश्कीं बाँध दीं मेरी

शनावर किस तरह गिर्दाब से बे-दस्त-ओ-पा निकले

शैख़ ये जो मानें का'बा ख़ुदा का घर है

बुत-ख़ाना में बता तू फिर कौन जल्वा-गर है

काबा को अगर मानें कि अल्लाह का घर है

बुत-ख़ाना में भी शैख़ नहीं कोई मकीं और

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए