Sarmad Sahbai's Photo'

सरमद सहबाई

1945 | पाकिस्तान

अग्रणी आधुनिक पाकिस्तानी शायर और नाटककार

अग्रणी आधुनिक पाकिस्तानी शायर और नाटककार

ग़ज़ल 13

शेर 3

सब की अपनी मंज़िलें थीं सब के अपने रास्ते

एक आवारा फिरे हम दर-ब-दर सब से अलग

उस के जाने का यक़ीं तो है मगर उलझन में हूँ

फूल के हाथों से ये ख़ुश-बू जुदा कैसे हुई

उस के मिलने पे भी महसूस हुआ है 'सरमद'

उस ने देखा ही हो मैं ने बुलाया ही हो

 

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

सरमद सहबाई

सरमद सहबाई

संबंधित शायर

  • शहनाज़ परवीन सहर शहनाज़ परवीन सहर समकालीन