Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर

शफ़ीक़ आज़मी

ग़ज़ल 1

 

अशआर 1

फ़ज़ा-ए-शहर बड़ी ख़ुश-गवार थी लेकिन

पलक झपकते ही कैसा अजीब मंज़र था

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 6

 

"आज़मगढ़" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए