ग़ज़ल 17

शेर 11

रौशनी बाँटता हूँ सरहदों के पार भी मैं

हम-वतन इस लिए ग़द्दार समझते हैं मुझे

मैं आप अपनी मौत की तय्यारियों में हूँ

मेरे ख़िलाफ़ आप की साज़िश फ़ुज़ूल है

मैं बदलते हुए हालात में ढल जाता हूँ

देखने वाले अदाकार समझते हैं मुझे

चित्र शायरी 2

अब तिरी याद से वहशत नहीं होती मुझ को ज़ख़्म खुलते हैं अज़िय्यत नहीं होती मुझ को अब कोई आए चला जाए मैं ख़ुश रहता हूँ अब किसी शख़्स की आदत नहीं होती मुझ को ऐसा बदला हूँ तिरे शहर का पानी पी कर झूट बोलूँ तो नदामत नहीं होती मुझ को है अमानत में ख़यानत सो किसी की ख़ातिर कोई मरता है तो हैरत नहीं होती मुझ को तू जो बदले तिरी तस्वीर बदल जाती है रंग भरने में सुहूलत नहीं होती मुझ को अक्सर औक़ात मैं ता'बीर बता देता हूँ बाज़ औक़ात इजाज़त नहीं होती मुझ को इतना मसरूफ़ हूँ जीने की हवस में 'शाहिद' साँस लेने की भी फ़ुर्सत नहीं होती मुझ को

 

संबंधित शायर

  • अली ज़रयून अली ज़रयून समकालीन
  • रहमान फ़ारिस रहमान फ़ारिस समकालीन

"सियालकोट" के और शायर

  • ज़िया-उल-मुस्तफ़ा तुर्क ज़िया-उल-मुस्तफ़ा तुर्क
  • चूँचाल सियालकोटी चूँचाल सियालकोटी
  • ज़ुल्फ़िक़ार ज़की ज़ुल्फ़िक़ार ज़की
  • सरफ़राज़ आरिश सरफ़राज़ आरिश
  • इफ़्तिख़ार शाहिद अबू साद इफ़्तिख़ार शाहिद अबू साद
  • जीफ़ ज़िया जीफ़ ज़िया