noImage

शेख़ क़ुद्रतुल्लाह क़ुदरत

1713 - 1790/91 | दिल्ली, भारत

छलकने लगे अश्क-ए-गुलगूँ मिज़ा से

फिर आई है फ़स्ल-ए-बहार गरेबाँ

यह पृष्ठ केवल निम्न लिपियों में उपलब्ध है

उर्दू