ज़फ़र अज्मी

ग़ज़ल 8

शेर 10

ये अलग बात कि वो दिल से किसी और का था

बात तो उस ने हमारी भी ब-ज़ाहिर रक्खी

बजा है ज़िंदगी से हम बहुत रहे नाराज़

मगर बताओ ख़फ़ा तुम से भी कभू हुए हैं

किसी के रास्ते की ख़ाक में पड़े हैं 'ज़फ़र'

मता-ए-उम्र यही आजिज़ी निकलती है

  • शेयर कीजिए

सब बड़े ज़ोम से आए थे नए सूरत-गर

सब के दामन से वही ख़्वाब पुराने निकले

ना-ख़ुदा छोड़ गए बीच भँवर में तो 'ज़फ़र'

एक तिनके के सहारे ने कहा बिस्मिल्लाह

"फ़ैसलाबाद" के और शायर

  • अंजुम सलीमी अंजुम सलीमी
  • रियाज़ मजीद रियाज़ मजीद
  • जहाँज़ेब साहिर जहाँज़ेब साहिर
  • नुसरत सिद्दीक़ी नुसरत सिद्दीक़ी
  • अरशद अज़ीज़ अरशद अज़ीज़
  • मिर्ज़ा फ़रहान आरिज़ मिर्ज़ा फ़रहान आरिज़
  • मसऊददुर्रह्मान मसऊद मसऊददुर्रह्मान मसऊद
  • बाबर अली असद बाबर अली असद
  • सनाउल्लाह ज़हीर सनाउल्लाह ज़हीर
  • शाहिद अशरफ़ शाहिद अशरफ़