Zameer Atraulvi's Photo'

ज़मीर अतरौलवी

1959 | अलीगढ़, भारत

ज़मीर अतरौलवी के शेर

हज़ारों ज़ुल्म हों मज़लूम पर तो चुप रहे दुनिया

अगर मज़लूम कुछ बोले तो दहशत-गर्द कहती है

ख़ून के जो रिश्ते थे बन गए अज़ाब-ए-जाँ

हम को दल के रिश्तों से इस्तिफ़ादा पहुँचा है

ग़रीबी नाम है जिस का अज़ाब-ए-जान होती है

मगर दौलत की कसरत मोहलिक-ए-ईमान होती है

उम्र भर जिस ने किसी का हुक्म माना ही नहीं

नफ़्स का अपने मगर वो शख़्स कारिंदा रहा

कोई भूका जो फ़र्त-ए-ज़ोफ़ से कुछ लड़खड़ा जाए

तो दुनिया तंज़ कसती है उसे मद-मस्त कहती है

इज़्न सूरज की किरन को नहीं जाने का जहाँ

मेरी तख़्ईल का शाहीन वहाँ भी पहुँचा