Ziaul Mustafa Turk's Photo'

ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क

1976 | मुल्तान, पाकिस्तान

ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क

ग़ज़ल 15

शेर 17

थोड़ी सी बारिश होती है

कितनी जल्दी भर जाता हूँ

आवाज़ों में बहते बहते

ख़ामोशी से मर जाता हूँ

जब बच्चों को देखता हूँ तो सोचता हूँ

मालिक इन फूलों की उम्र दराज़ करे

किसी सफ़र किसी अस्बाब से इलाक़ा नहीं

तुम्हारे बाद किसी ख़्वाब से इलाक़ा नहीं

हर एक साज़ को साज़िंदगाँ नहीं दरकार

बदन को ज़र्बत-ए-मिज़राब से इलाक़ा नहीं

संबंधित शायर

  • काशिफ़ हुसैन ग़ाएर काशिफ़ हुसैन ग़ाएर समकालीन
  • हमज़ा दाइम हमज़ा दाइम शिष्य
  • सय्यद काशिफ़ रज़ा सय्यद काशिफ़ रज़ा समकालीन

"मुल्तान" के और शायर

  • ग़ुलाम हुसैन साजिद ग़ुलाम हुसैन साजिद
  • शाैकत वास्ती शाैकत वास्ती
  • मोहसिन नक़वी मोहसिन नक़वी
  • क़मर रज़ा शहज़ाद क़मर रज़ा शहज़ाद
  • अनवार अंजुम अनवार अंजुम
  • असलम अंसारी असलम अंसारी
  • हिना अंबरीन हिना अंबरीन
  • आनिस मुईन आनिस मुईन
  • मुबश्शिर सईद मुबश्शिर सईद
  • अर्श सिद्दीक़ी अर्श सिद्दीक़ी