noImage

हमीद अज़ीमाबादी

1896 - 1963

हमीद अज़ीमाबादी के शेर

आप ने तीर लगाया तो कोई बात थी

ज़ख़्म मैं ने जो दिखाया तो बुरा मान गए