Rajesh Reddy's Photo'

राजेश रेड्डी

1952 | मुंबई, भारत

समाजिक सच्चाइयों को बेनक़ाब करने वाले लोकप्रिय शायर

समाजिक सच्चाइयों को बेनक़ाब करने वाले लोकप्रिय शायर

2.3K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जितनी बटनी थी बट चुकी ये ज़मीं

अब तो बस आसमान बाक़ी है

शाम को जिस वक़्त ख़ाली हाथ घर जाता हूँ मैं

मुस्कुरा देते हैं बच्चे और मर जाता हूँ मैं

मिरे दिल के किसी कोने में इक मासूम सा बच्चा

बड़ों की देख कर दुनिया बड़ा होने से डरता है

किस ने पाया सुकून दुनिया में

ज़िंदगानी का सामना कर के

किसी दिन ज़िंदगानी में करिश्मा क्यूँ नहीं होता

मैं हर दिन जाग तो जाता हूँ ज़िंदा क्यूँ नहीं होता

दोस्तों का क्या है वो तो यूँ भी मिल जाते हैं मुफ़्त

रोज़ इक सच बोल कर दुश्मन कमाने चाहिएँ

ये जो ज़िंदगी की किताब है ये किताब भी क्या किताब है

कहीं इक हसीन सा ख़्वाब है कहीं जान-लेवा अज़ाब है

दिल भी इक ज़िद पे अड़ा है किसी बच्चे की तरह

या तो सब कुछ ही इसे चाहिए या कुछ भी नहीं

कौन पढ़ता है यहाँ खोल के अब दिल की किताब

अब तो चेहरे को ही अख़बार किया जाना है

कुछ परिंदों को तो बस दो चार दाने चाहिएँ

कुछ को लेकिन आसमानों के ख़ज़ाने चाहिएँ

यहाँ हर शख़्स हर पल हादसा होने से डरता है

खिलौना है जो मिट्टी का फ़ना होने से डरता है

नींद को ढूँड के लाने की दवाएँ थीं बहुत

काम मुश्किल तो कोई ख़्वाब हसीं ढूँढना था

क्या जाने किस जहाँ में मिलेगा हमें सुकून

नाराज़ हैं ज़मीं से ख़फ़ा आसमाँ से हम

मिलते नहीं हैं अपनी कहानी में हम कहीं

ग़ाएब हुए हैं जब से तिरी दास्ताँ से हम

बहाना कोई तो ज़िंदगी दे

कि जीने के लिए मजबूर हो जाऊँ

बुलंदी के लिए बस अपनी ही नज़रों से गिरना था

हमारी कम-नसीबी हम में कुछ ग़ैरत ज़ियादा थी

कुछ इस तरह गुज़ारा है ज़िंदगी को हम ने

जैसे कि ख़ुद पे कोई एहसान कर लिया है

सब लोग इस से पहले कि देवता समझते

हम ने ज़रा सा ख़ुद को इंसान कर लिया है

मिरी इक ज़िंदगी के कितने हिस्से-दार हैं लेकिन

किसी की ज़िंदगी में मेरा हिस्सा क्यूँ नहीं होता

सफ़र में अब के अजब तजरबा निकल आया

भटक गया तो नया रास्ता निकल आया

दिल भी बच्चे की तरह ज़िद पे अड़ा था अपना

जो जहाँ था ही नहीं उस को वहीं ढूँढना था

ग़म बिक रहे थे मेले में ख़ुशियों के नाम पर

मायूस हो के लौटे हैं हर इक दुकाँ से हम

साथ 'ग़ालिब' के गई फ़िक्र की गहराई भी

और लहजा भी गया 'मीर-तक़ी-मीर' के साथ

अब तो सराब ही से बुझाने लगे हैं प्यास

लेने लगे हैं काम यक़ीं का गुमाँ से हम

मैं ने तो ब'अद में तोड़ा था इसे

आईना मुझ पे हँसा था पहले

मयस्सर मुफ़्त में थे आसमाँ के चाँद तारे तक

ज़मीं के हर खिलौने की मगर क़ीमत ज़ियादा थी

किया ईजाद जिस ने भी ख़ुदा को

वो ख़ुद को कैसे बहलाता था पहले

आदमी ही के बनाए हुए ज़िंदाँ हैं ये सब

कोई पैदा नहीं होता किसी ज़ंजीर के साथ

बड़ी तस्वीर लटका दी है अपनी

जहाँ छोटा सा आईना था पहले

मिरी ग़ज़ल में किसी बेवफ़ा का ज़िक्र था

जाने कैसे तिरा तज़्किरा निकल आया

इजाज़त कम थी जीने की मगर मोहलत ज़ियादा थी

हमारे पास मरने के लिए फ़ुर्सत ज़ियादा थी

जुस्तुजू का इक अजब सिलसिला ता-उम्र रहा

ख़ुद को खोना था कहीं और कहीं ढूँढना था

हाथ उठाता है दुआओं को फ़लक भी उस दम

जब परिंदा कोई परवाज़ को पर तौलता है

सोच लो कल कहीं आँसू बहाने पड़ जाएँ

ख़ून का क्या है रगों में वो यूँही खौलता है

या ख़ुदा अब के ये किस रंग में आई है बहार

ज़र्द ही ज़र्द है पेड़ों पे हरा कुछ भी नहीं

वो दिल से कम ज़बाँ ही से ज़ियादा बात करता था

जभी उस के यहाँ गहराई कम वुसअत ज़ियादा थी