रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ

अहमद फ़राज़

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ

अहमद फ़राज़

MORE BY अहमद फ़राज़

    रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए

    फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए

    even if you are annoyed come just to give me pain

    come even if you have to then leave me yet again

    कुछ तो मिरे पिंदार-ए-मोहब्बत का भरम रख

    तू भी तो कभी मुझ को मनाने के लिए

    the notion of my love's self-pride please do pacify

    you should surely come one day and try to mollify

    पहले से मरासिम सही फिर भी कभी तो

    रस्म-ओ-रह-ए-दुनिया ही निभाने के लिए

    even tho no longer close we are as used to be

    come even if it's purely for sake of formality

    किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम

    तू मुझ से ख़फ़ा है तो ज़माने के लिए

    the reason for our parting to whom should I relate

    if cross with methen come and to the world narrate

    इक उम्र से हूँ लज़्ज़त-ए-गिर्या से भी महरूम

    राहत-ए-जाँ मुझ को रुलाने के लिए

    a lifetime have I missed the joy of tearful ecstasy

    life's comfort thus to make me cry, you should come to me

    अब तक दिल-ए-ख़ुश-फ़हम को तुझ से हैं उम्मीदें

    ये आख़िरी शमएँ भी बुझाने के लिए

    my heart is optimistic yet, its hopes are still alive

    come to snuff it out, let not this final flame survive

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    Shruti Pathak

    Shruti Pathak

    अज्ञात

    अज्ञात

    मेहदी हसन

    मेहदी हसन

    आशा भोसले

    आशा भोसले

    रुना लैला

    रुना लैला

    फ़रीदा ख़ानम

    फ़रीदा ख़ानम

    रफ़ाक़त अली ख़ान

    रफ़ाक़त अली ख़ान

    हबीब वली मोहम्मद

    हबीब वली मोहम्मद

    RECITATIONS

    फ़हद हुसैन

    फ़हद हुसैन

    मेहदी हसन

    मेहदी हसन

    अहमद फ़राज़

    अहमद फ़राज़

    फ़हद हुसैन

    रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ फ़हद हुसैन

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY