लेखक: परिचय

गुस्ताख़ रामपुरी, करामत-अल्लाह ख़ाँ (1866-1914) पेशे से जेलर मगर दिल से आ’शिक़ और शाइ’र थे। शराब और औ’रतों का बड़ा शौक़ था। बक़ौल हसरत मोहानी आँखें हर वक़्त गुलाबी रहती थीं। बहुत ख़ुश-मिज़ाज और शाह-ख़र्च थे। शाइ’री में अमीर मीनाई के शागिर्द थे और उनके शे’रों में उन्हीं जैसी, बयान की सफ़ाई और शोख़ी मिलती है।

.....और पढ़िए

पाठकों की पसंद

यदि आप अन्य पाठकों की पसंद में रुचि रखते हैं, तो रेख़्ता पाठकों की पसंदीदा उर्दू पुस्तकों की इस सूची को देखें।

पूरा देखिए

लोकप्रिय और ट्रेंडिंग

सबसे लोकप्रिय और ट्रेंडिंग उर्दू पुस्तकों का पता लगाएँ।

पूरा देखिए
बोलिए