मिलाते हो उसी को ख़ाक में जो दिल से मिलता है

दाग़ देहलवी

मिलाते हो उसी को ख़ाक में जो दिल से मिलता है

दाग़ देहलवी

MORE BY दाग़ देहलवी

    मिलाते हो उसी को ख़ाक में जो दिल से मिलता है

    मिरी जाँ चाहने वाला बड़ी मुश्किल से मिलता है

    those who meet you lovingly then into dust you grind

    those who bear affection, dear, are very hard to find

    कहीं है ईद की शादी कहीं मातम है मक़्तल में

    कोई क़ातिल से मिलता है कोई बिस्मिल से मिलता है

    festive joy in places, elsewhere gloom of genocide

    some like the murderer rejoice, some victim-like abide

    पस-ए-पर्दा भी लैला हाथ रख लेती है आँखों पर

    ग़ुबार-ए-ना-तवान-ए-क़ैस जब महमिल से मिलता है

    Lailaa covers up her eyes even behind the veil

    when her carriage is beset by dust of majnuu.n frail

    भरे हैं तुझ में वो लाखों हुनर मजमा-ए-ख़ूबी

    मुलाक़ाती तिरा गोया भरी महफ़िल से मिलता है

    you do possess a myriad skills , a throng of talents bring

    one who meets you is as though he meets a gathering

    मुझे आता है क्या क्या रश्क वक़्त-ए-ज़ब्ह उस से भी

    गला जिस दम लिपट कर ख़ंजर-ए-क़ातिल से मिलता है

    what envy I feel for my neck, even in slaughter's face

    when the dagger of the killer takes it in embrace

    ब-ज़ाहिर बा-अदब यूँ हज़रत-ए-नासेह से मिलता हूँ

    मुरीद-ए-ख़ास जैसे मुर्शिद-ए-कामिल से मिलता है

    it's obvious so respectfully the preacher I do greet

    just as a special pupil does the perfect master meet

    मिसाल-ए-गंज-ए-क़ारूँ अहल-ए-हाजत से नहीं छुपता

    जो होता है सख़ी ख़ुद ढूँड कर साइल से मिलता है

    like the wealth of Croseus, from poor he does not hide,

    a philanthrope seeks out the needy, himself, to provide

    जवाब इस बात का उस शोख़ को क्या दे सके कोई

    जो दिल ले कर कहे कम-बख़्त तू किस दिल से मिलता है

    an answer to her mishievous comment what can there be

    who takes my heart and says "you fool, you meet me heartlessly"

    छुपाए से कोई छुपती है अपने दिल की बेताबी

    कि हर तार-ए-नफ़स अपना रग-ए-बिस्मिल से मिलता है

    can restlessness be hidden then, however may be tried

    as every ragged breath now does with wounded veins collide

    अदम की जो हक़ीक़त है वो पूछो अहल-ए-हस्ती से

    मुसाफ़िर को तो मंज़िल का पता मंज़िल से मिलता है

    seek from the people of this world, the truth of death's domain

    for in this path from present stops, past's knowledge will obtain

    ग़ज़ब है 'दाग़' के दिल से तुम्हारा दिल नहीं मिलता

    तुम्हारा चाँद सा चेहरा मह-ए-कामिल से मिलता है

    tis wonder that your heart rejects this heart, so scarred, of mine

    your moon-like face resembles when, the full-moon's face divine

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    फ़सीह अकमल

    फ़सीह अकमल

    नोमान शौक़

    मिलाते हो उसी को ख़ाक में जो दिल से मिलता है नोमान शौक़

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites