ठानी थी दिल में अब न मिलेंगे किसी से हम

मोमिन ख़ाँ मोमिन

ठानी थी दिल में अब न मिलेंगे किसी से हम

मोमिन ख़ाँ मोमिन

MORE BY मोमिन ख़ाँ मोमिन

    ठानी थी दिल में अब मिलेंगे किसी से हम

    पर क्या करें कि हो गए नाचार जी से हम

    I had resolved to meet no one ever again

    my heart made me helpless and I could not refrain

    हँसते जो देखते हैं किसी को किसी से हम

    मुँह देख देख रोते हैं किस बेकसी से हम

    when I see people laugh amongst themselves I stare

    at their faces and shed tears in utter despair

    हम से बोलो तुम इसे क्या कहते हैं भला

    इंसाफ़ कीजे पूछते हैं आप ही से हम

    whatever it be called, you do not have to say

    I ask you for justice that's merely all I pray

    बे-ज़ार जान से जो होते तो माँगते

    शाहिद शिकायतों पे तिरी मुद्दई से हम

    if I were not disgusted with life I would have sought

    My rival to bear witness against the plaints you brought

    उस कू में जा मरेंगे मदद हुजूम-ए-शौक़

    आज और ज़ोर करते हैं बे-ताक़ती से हम

    O throng of my desires help me, in her street, to die

    however weak my efforts be now harder I will try

    साहब ने इस ग़ुलाम को आज़ाद कर दिया

    लो बंदगी कि छूट गए बंदगी से हम

    the master has now freed me from the yoke of slavery

    see my worship that from bondage I have been set free

    बे-रोए मिस्ल-ए-अब्र निकला ग़ुबार-ए-दिल

    कहते थे उन को बर्क़-ए-तबस्सुम हँसी से हम

    Till I cried like clouds, my heart's delusions were all there

    Flippantly, her smile to lightning, I used to compare

    इन ना-तावनियों पे भी थे ख़ार-ए-राह-ए-ग़ैर

    क्यूँ कर निकाले जाते उस की गली से हम

    tho frail and weak, a thorn was I in my rival's way

    why would I, then from her path, not be cast away

    क्या गुल खिलेगा देखिए है फ़स्ल-ए-गुल तो दूर

    और सू-ए-दश्त भागते हैं कुछ अभी से हम

    wait and see what happens, spring is not yet near

    towards wilderness I flee, this early in the year

    मुँह देखने से पहले भी किस दिन वो साफ़ था

    बे-वजह क्यूँ ग़ुबार रखें आरसी से हम

    even ere my face I saw, when was it spotless, clean?

    why should then a grudge we bear, against the mirror's sheen?

    है छेड़ इख़्तिलात भी ग़ैरों के सामने

    हँसने के बदले रोएँ क्यूँ गुदगुदी से हम

    her dalliance with my rival vexes me so deep

    when tickled, 'stead of laughing, why should I not weep

    वहशत है इश्क़-ए-पर्दा-नशीं में दम-ए-बुका

    मुँह ढाँकते हैं पर्दा-ए-चश्म-ए-परी से हम

    ---------

    ---------

    क्या दिल को ले गया कोई बेगाना-आश्ना

    क्यूँ अपने जी को लगते हैं कुछ अजनबी से हम

    has my heart been taken by a stranger tell me pray

    Why then am I a stranger to myself today?

    ले नाम आरज़ू का तो दिल को निकाल लें

    'मोमिन' हों जो रब्त रखें बिदअती से हम

    if it even mentions hope the heart I will deface

    I'm not a true adherent if new tenets I embrace

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    ताज मुल्तानी

    ताज मुल्तानी

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites