बरेली के शायर और अदीब

कुल: 50

मौलाना अहमद रज़ा ख़ान के भाई, बरेलवी पंथ के संस्थापक , दाग़ देहलवी के शिष्य

जिगर के समकालीन , मसनवी " प्याम-ए-सावित्री" के लिए मशहूर, हदीस-ए-ख़ुदी के शीर्षक से आत्मकथा प्रकाशित

जाने माने शायर / विख्यात उत्रर-आधनिक शायर शारिक़ कैफ़ी के पिता

अग्रणी आधुनिक उर्दू शायरों में शामिल। फ़िल्म गीतकार , ' फ़िल्म उमराव जान ' , के गीतों के लिए प्रसिद्ध। भारतीय ज्ञान पीठ एवार्ड से सम्मानित

लोकप्रिय शायर।

समकालीन महिला कथाकारों में शामिल।

समकालीन शायर, मुशायरों में लोकप्रिय

लोकप्रिय पाकिस्तानी कथाकार, उपन्यास ‘आंगन’ की लेखिका, महत्वपूर्ण साहित्यिक सम्मान ‘आदम जी एवार्ड’ से सम्मानित।

प्रसिद्ध आधुनिक कहानीकार, गंभीर अस्तित्ववादी समस्याओं की कहानियाँ लिखने के लिए चर्चित, उर्दू में मार्खेज़ और मिलान कुंद्रा पर अपने लेखन के लिए भी जाने जाते हैं।

बोलिए