मस्जिद-ए-क़ुर्तुबा

अल्लामा इक़बाल

मस्जिद-ए-क़ुर्तुबा

अल्लामा इक़बाल

MORE BY अल्लामा इक़बाल

    INTERESTING FACT

    हस्पानिया की सर-ज़मीन बिल-ख़ुसूस क़र्तबा में लिखी गई

    सिलसिला-ए-रोज़-ओ-शब नक़्श-गर-ए-हादसात

    सिलसिला-ए-रोज़-ओ-शब अस्ल-ए-हयात-ओ-ममात

    सिलसिला-ए-रोज़-ओ-शब तार-ए-हरीर-ए-दो-रंग

    जिस से बनाती है ज़ात अपनी क़बा-ए-सिफ़ात

    सिलसिला-ए-रोज़-ओ-शब साज़-ए-अज़ल की फ़ुग़ाँ

    जिस से दिखाती है ज़ात ज़ेर-ओ-बम-ए-मुम्किनात

    तुझ को परखता है ये मुझ को परखता है ये

    सिलसिला-ए-रोज़-ओ-शब सैरफ़ी-ए-काएनात

    तू हो अगर कम अयार मैं हूँ अगर कम अयार

    मौत है तेरी बरात मौत है मेरी बरात

    तेरे शब-ओ-रोज़ की और हक़ीक़त है क्या

    एक ज़माने की रौ जिस में दिन है रात

    आनी-ओ-फ़ानी तमाम मोजज़ा-हा-ए-हुनर

    कार-ए-जहाँ बे-सबात कार-ए-जहाँ बे-सबात

    अव्वल आख़िर फ़ना बातिन ज़ाहिर फ़ना

    नक़्श-ए-कुहन हो कि नौ मंज़िल-ए-आख़िर फ़ना

    है मगर इस नक़्श में रंग-ए-सबात-ए-दवाम

    जिस को किया हो किसी मर्द-ए-ख़ुदा ने तमाम

    मर्द-ए-ख़ुदा का अमल इश्क़ से साहब फ़रोग़

    इश्क़ है अस्ल-ए-हयात मौत है उस पर हराम

    तुंद सुबुक-सैर है गरचे ज़माने की रौ

    इश्क़ ख़ुद इक सैल है सैल को लेता है थाम

    इश्क़ की तक़्वीम में अस्र-ए-रवाँ के सिवा

    और ज़माने भी हैं जिन का नहीं कोई नाम

    इश्क़ दम-ए-जिब्रईल इश्क़ दिल-ए-मुस्तफ़ा

    इश्क़ ख़ुदा का रसूल इश्क़ ख़ुदा का कलाम

    इश्क़ की मस्ती से है पैकर-ए-गिल ताबनाक

    इश्क़ है सहबा-ए-ख़ाम इश्क़ है कास-उल-किराम

    इश्क़ फ़क़ीह-ए-हराम इश्क़ अमीर-ए-जुनूद

    इश्क़ है इब्नुस-सबील इस के हज़ारों मक़ाम

    इश्क़ के मिज़राब से नग़्मा-ए-तार-ए-हयात

    इश्क़ से नूर-ए-हयात इश्क़ से नार-ए-हयात

    हरम-ए-क़ुर्तुबा इश्क़ से तेरा वजूद

    इश्क़ सरापा दवाम जिस में नहीं रफ़्त बूद

    रंग हो या ख़िश्त संग चंग हो या हर्फ़ सौत

    मोजज़ा-ए-फ़न की है ख़ून-ए-जिगर से नुमूद

    क़तरा-ए-ख़ून-ए-जिगर सिल को बनाता है दिल

    ख़ून-ए-जिगर से सदा सोज़ सुरूर सुरूद

    तेरी फ़ज़ा दिल-फ़रोज़ मेरी नवा सीना-सोज़

    तुझ से दिलों का हुज़ूर मुझ से दिलों की कुशूद

    अर्श-ए-मोअल्ला से कम सीना-ए-आदम नहीं

    गरचे कफ़-ए-ख़ाक की हद है सिपहर-ए-कबूद

    पैकर-ए-नूरी को है सज्दा मयस्सर तो क्या

    उस को मयस्सर नहीं सोज़-ओ-गुदाज़-ए-सजूद

    काफ़िर-ए-हिन्दी हूँ मैं देख मिरा ज़ौक़ शौक़

    दिल में सलात दुरूद लब पे सलात दुरूद

    शौक़ मिरी लय में है शौक़ मिरी नय में है

    नग़्मा-ए-अल्लाह-हू मेरे रग-ओ-पय में है

    तेरा जलाल जमाल मर्द-ए-ख़ुदा की दलील

    वो भी जलील जमील तू भी जलील जमील

    तेरी बिना पाएदार तेरे सुतूँ बे-शुमार

    शाम के सहरा में हो जैसे हुजूम-ए-नुख़ील

    तेरे दर-ओ-बाम पर वादी-ए-ऐमन का नूर

    तेरा मिनार-ए-बुलंद जल्वा-गह-ए-जिब्रील

    मिट नहीं सकता कभी मर्द-ए-मुसलमाँ कि है

    उस की अज़ानों से फ़ाश सिर्र-ए-कलीम-ओ-ख़लील

    उस की ज़मीं बे-हुदूद उस का उफ़ुक़ बे-सग़ूर

    उस के समुंदर की मौज दजला दनयूब नील

    उस के ज़माने अजीब उस के फ़साने ग़रीब

    अहद-ए-कुहन को दिया उस ने पयाम-ए-रहील

    साक़ी-ए-रबाब-ए-ज़ौक़ फ़ारस-ए-मैदान-ए-शौक़

    बादा है उस का रहीक़ तेग़ है उस की असील

    मर्द-ए-सिपाही है वो उस की ज़िरह ला-इलाह

    साया-ए-शमशीर में उस की पनह ला-इलाह

    तुझ से हुआ आश्कार बंदा-ए-मोमिन का राज़

    उस के दिनों की तपिश उस की शबों का गुदाज़

    उस का मक़ाम-ए-बुलंद उस का ख़याल-ए-अज़ीम

    उस का सुरूर उस का शौक़ उस का नियाज़ उस का नाज़

    हाथ है अल्लाह का बंदा-ए-मोमिन का हाथ

    ग़ालिब कार-आफ़रीं कार-कुशा कारसाज़

    ख़ाकी नूरी-निहाद बंदा-ए-मौला-सिफ़ात

    हर दो-जहाँ से ग़नी उस का दिल-ए-बे-नियाज़

    उस की उमीदें क़लील उस के मक़ासिद जलील

    उस की अदा दिल-फ़रेब उस की निगह दिल-नवाज़

    आज भी इस देस में आम है चश्म-ए-ग़ज़ाल

    और निगाहों के तीर आज भी हैं दिल-नशीं

    बू-ए-यमन आज भी उस की हवाओं में है

    रंग-ए-हिजाज़ आज भी उस की नवाओं में है

    दीदा-ए-अंजुम में है तेरी ज़मीं आसमाँ

    आह कि सदियों से है तेरी फ़ज़ा बे-अज़ाँ

    कौन सी वादी में है कौन सी मंज़िल में है

    इश्क़-ए-बला-ख़ेज़ का क़ाफ़िला-ए-सख़्त-जाँ

    देख चुका अल्मनी शोरिश-ए-इस्लाह-ए-दीं

    जिस ने छोड़े कहीं नक़्श-ए-कुहन के निशाँ

    हर्फ़-ए-ग़लत बन गई इस्मत-ए-पीर-ए-कुनिश्त

    और हुई फ़िक्र की कश्ती-ए-नाज़ुक रवाँ

    चश्म-ए-फ़िराँसिस भी देख चुकी इंक़लाब

    जिस से दिगर-गूँ हुआ मग़रबियों का जहाँ

    मिल्लत-ए-रूमी-निज़ाद कोहना-परस्ती से पीर

    लज़्ज़त-ए-तज्दीदा से वो भी हुई फिर जवाँ

    रूह-ए-मुसलमाँ में है आज वही इज़्तिराब

    राज़-ए-ख़ुदाई है ये कह नहीं सकती ज़बाँ

    नर्म दम-ए-गुफ़्तुगू गर्म दम-ए-जुस्तुजू

    रज़्म हो या बज़्म हो पाक-दिल पाक-बाज़

    नुक़्ता-ए-परकार-ए-हक़ मर्द-ए-ख़ुदा का यक़ीं

    और ये आलम तमाम वहम तिलिस्म मजाज़

    अक़्ल की मंज़िल है वो इश्क़ का हासिल है वो

    हल्क़ा-ए-आफ़ाक़ में गर्मी-ए-महफ़िल है वो

    काबा-ए-अरबाब-ए-फ़न सतवत-ए-दीन-ए-मुबीं

    तुझ से हरम मर्तबत उंदुलुसियों की ज़मीं

    है तह-ए-गर्दूं अगर हुस्न में तेरी नज़ीर

    क़ल्ब-ए-मुसलमाँ में है और नहीं है कहीं

    आह वो मरदान-ए-हक़ वो अरबी शहसवार

    हामिल-ए-ख़ल्क़-ए-अज़ीम साहब-ए-सिद्क-ओ-यक़ीं

    जिन की हुकूमत से है फ़ाश ये रम्ज़-ए-ग़रीब

    सल्तनत-ए-अहल-ए-दिल फ़क़्र है शाही नहीं

    जिन की निगाहों ने की तर्बियत-ए-शर्क़-ओ-ग़र्ब

    ज़ुल्मत-ए-यूरोप में थी जिन की ख़िरद-राह-बीं

    जिन के लहू के तुफ़ैल आज भी हैं उंदुलुसी

    ख़ुश-दिल गर्म-इख़्तिलात सादा रौशन-जबीं

    देखिए इस बहर की तह से उछलता है क्या

    गुम्बद-ए-नीलोफ़री रंग बदलता है क्या

    वादी-ए-कोह-सार में ग़र्क़-ए-शफ़क़ है सहाब

    लाल-ए-बदख़्शाँ के ढेर छोड़ गया आफ़्ताब

    सादा पुर-सोज़ है दुख़्तर-ए-दहक़ाँ का गीत

    कश्ती-ए-दिल के लिए सैल है अहद-ए-शबाब

    आब-ए-रवान-ए-कबीर तेरे किनारे कोई

    देख रहा है किसी और ज़माने का ख़्वाब

    आलम-ए-नौ है अभी पर्दा-ए-तक़दीर में

    मेरी निगाहों में है उस की सहर बे-हिजाब

    पर्दा उठा दूँ अगर चेहरा-ए-अफ़्कार से

    ला सकेगा फ़रंग मेरी नवाओं की ताब

    जिस में हो इंक़लाब मौत है वो ज़िंदगी

    रूह-ए-उमम की हयात कश्मकश-ए-इंक़िलाब

    सूरत-ए-शमशीर है दस्त-ए-क़ज़ा में वो क़ौम

    करती है जो हर ज़माँ अपने अमल का हिसाब

    नक़्श हैं सब ना-तमाम ख़ून-ए-जिगर के बग़ैर

    नग़्मा है सौदा-ए-ख़ाम ख़ून-ए-जिगर के बग़ैर

    RECITATIONS

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    मस्जिद-ए-क़ुर्तुबा शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites