noImage

आग़ा अकबराबादी

प्रतिष्ठित क्लासिकी शायर, ग़ज़लों में अपारंपरिक प्रेम और रोमांस के लिए मशहूर, दाग़ के समकालीन

प्रतिष्ठित क्लासिकी शायर, ग़ज़लों में अपारंपरिक प्रेम और रोमांस के लिए मशहूर, दाग़ के समकालीन

891
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हमें तो उन की मोहब्बत है कोई कुछ समझे

हमारे साथ मोहब्बत उन्हें नहीं तो नहीं

रक़ीब क़त्ल हुआ उस की तेग़-ए-अबरू से

हराम-ज़ादा था अच्छा हुआ हलाल हुआ

किसी को कोसते क्यूँ हो दुआ अपने लिए माँगो

तुम्हारा फ़ाएदा क्या है जो दुश्मन का ज़रर होगा

सनम-परस्ती करूँ तर्क क्यूँकर वाइ'ज़

बुतों का ज़िक्र ख़ुदा की किताब में देखा

किसी सय्याद की पड़ जाए चिड़िया पे नज़र

आप सरकाएँ महरम से दुपट्टा अपना

मय-कशों में कोई मुझ सा नमाज़ी होगा

दर-ए-मय-ख़ाना पे बिछता है मुसल्ला अपना

कुछ ऐसी पिला दे मुझे पीर-ए-मुग़ाँ आज

क़ैंची की तरह चलने लगी मेरी ज़बाँ आज

हाथ दोनों मिरी गर्दन में हमाइल कीजे

और ग़ैरों को दिखा दीजे अँगूठा अपना

हम कहते थे कि सौदा ज़ुल्फ़ का अच्छा नहीं

देखिए तो अब सर-ए-बाज़ार रुस्वा कौन है

देखिए पार हो किस तरह से बेड़ा अपना

मुझ को तूफ़ाँ की ख़बर दीदा-ए-तर देते हैं

ता-मर्ग मुझ से तर्क होगी कभी नमाज़

पर नश्शा-ए-शराब ने मजबूर कर दिया

शराब पीते हैं तो जागते हैं सारी रात

मुदाम आबिद-ए-शब-ज़िंदादार हम भी हैं

दो-शाला शाल कश्मीरी अमीरों को मुबारक हो

गलीम-ए-कोहना में जाड़ा फ़क़ीरों का बसर होगा

ज़ाहिदो कअ'बे की जानिब खींचते हो क्यूँ मुझे

जी नहीं लगता कभी मज़दूर का बेगार में

बुत नज़र आएँगे माशूक़ों की कसरत होगी

आज बुत-ख़ाना में अल्लाह की क़ुदरत होगी

शिकायत मुझ को दोनों से है नासेह हो कि वाइज़ हो

समझा हूँ समझूँ सर फिरा ले जिस का जी चाहे

दर-ब-दर फिरने ने मेरी क़द्र खोई फ़लक

उन के दिल में ही जगह मिलती जो ख़ल्वत माँगता

इन परी-रूयों की ऐसी ही अगर कसरत रही

थोड़े अर्सा में परिस्ताँ आगरा हो जाएगा

दश्त-ए-वहशत-ख़ेज़ में उर्यां है 'आग़ा' आप ही

क़ासिद-ए-जानाँ को क्या देता जो ख़िलअत माँगता

जी चाहता है उस बुत-ए-काफ़िर के इश्क़ में

तस्बीह तोड़ डालिए ज़ुन्नार देख कर

देखो तो एक जा पे ठहरती नहीं नज़र

लपका पड़ा है आँख को क्या देख-भाल का

रिंद-मशरब हैं किसी से हमें कुछ काम नहीं

दैर अपना है काबा कलीसा अपना

मय-कशो देर है क्या दौर चले बिस्मिल्लाह

आई है शीशा-ओ-साग़र की तलबगार घटा

सितमगर तिरी तलवार का धब्बा छट जाए

अपने दामन को लहू से मिरे भर जाने दे

जुनूँ के हाथ से है इन दिनों गरेबाँ तंग

क़बा पुकारती है तार तार हम भी हैं

पान खा कर जो उगाल आप ने थूका साहब

जौहरी महव हुए लाल-ए-यमन याद आया

तवाफ़-ए-काबा को क्या जाएँ हज नहीं वाजिब

कलाल-ख़ाने के कुछ दीन-दार हम भी हैं

वादा-ए-बादा-ए-अतहर का भरोसा कब तक

चल के भट्टी पे पिएँ जुर'आ-ए-इरफ़ाँ कैसा