aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर

आरसी

ग़ज़ल 2

 

नज़्म 2

 

दोहा 9

जैसा उस का क्रोध है वैसा उस का प्यार

अलग अलग होती नहीं दो-धारी तलवार

  • शेयर कीजिए

ध्यान रखे चिंता करे ये है उस की रीत

नारी के संवाद को समझ लेना प्रीत

  • शेयर कीजिए

कब तक ढोती याद की तस्वीरों का भार

इतनी कीलें ठोक दीं टूट गई दीवार

  • शेयर कीजिए

यादें तिरी कट सकीं काट दिए नाख़ून

भींच भींच कर मुट्ठियाँ आने लगा था ख़ून

  • शेयर कीजिए

नदिया सूखी द्वेष की प्रीत करे बदलाओ

आर मिल गया पार से ख़त्म हुआ अलगाव

  • शेयर कीजिए

"गुड़गाँव" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए