Vipul Kumar's Photo'

विपुल कुमार

1993 | गुड़गाँव, भारत

ग़ज़ल 8

शेर 20

इक रोज़ खेल खेल में हम उस के हो गए

और फिर तमाम उम्र किसी के नहीं हुए

हर मुलाक़ात पे सीने से लगाने वाले

कितने प्यारे हैं मुझे छोड़ के जाने वाले

उस हिज्र पे तोहमत कि जिसे वस्ल की ज़िद हो

उस दर्द पे ला'नत की जो अशआ'र में जाए

  • शेयर कीजिए

संबंधित शायर

  • अभिषेक शुक्ला अभिषेक शुक्ला समकालीन
  • तरकश प्रदीप तरकश प्रदीप समकालीन
  • पल्लव मिश्रा पल्लव मिश्रा समकालीन
  • विकास शर्मा राज़ विकास शर्मा राज़ समकालीन

"गुड़गाँव" के और शायर

  • मुसव्विर सब्ज़वारी मुसव्विर सब्ज़वारी
  • जगदीश प्रकाश जगदीश प्रकाश
  • शादान अहसन मारहरवी शादान अहसन मारहरवी
  • दिनाक्षी सहर दिनाक्षी सहर
  • इम्तियाज़ ख़ान इम्तियाज़ ख़ान