noImage

आग़ा मोहम्मद तक़ी ख़ान तरक़्क़ी

1740 | फ़ैज़ाबाद, भारत

आग़ा मोहम्मद तक़ी ख़ान तरक़्क़ी

ग़ज़ल 2

 

अशआर 4

दुनिया के जो मज़े हैं हरगिज़ वो कम होंगे

चर्चे यूँही रहेंगे अफ़्सोस हम होंगे

  • शेयर कीजिए

यकताई पे है नाज़ तो इतना भी रहे याद

तुम सा मुझे तो तुम को भी मुझ सा मिलेगा

  • शेयर कीजिए

जिसे इशरत-कदा-ए-दहर समझता था मैं

आख़िर-ए-कार वो इक ख़्वाब-ए-परेशाँ निकला

  • शेयर कीजिए

बुरा हो या-इलाही दिल-लगी का

घटा की उम्र और उल्फ़त बढ़ा की

  • शेयर कीजिए

चित्र शायरी 2

 

संबंधित शायर

"फ़ैज़ाबाद" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए