noImage

अक़ील शादाब

अक़ील शादाब

ग़ज़ल 14

शेर 16

बराए-नाम सही कोई मेहरबान तो है

हमारे सर पे भी होने को आसमान तो है

ज़िंदगी जिस के तसव्वुर में बसर की हम ने

हाए वो शख़्स हक़ीक़त में कहानी निकला

ज़िंदगी मुझ को मिरी नज़रों में शर्मिंदा कर

मर चुका है जो बहुत पहले उसे ज़िंदा कर

जो अपने आप से बढ़ कर हमारा अपना था

उसे क़रीब से देखा तो दूर का निकला

गुमान ही असासा था यक़ीन का

यक़ीन ही गुमान में नहीं रहा

दोहा 3

इक काँटे से दूसरा मैं ने लिया निकाल

फूलों का इस देस में कैसा पड़ा अकाल

  • शेयर कीजिए

चादर मैली हो गई अब कैसे लौटाऊँ

अपने पिया के सामने जाते हुए शरमाऊँ

  • शेयर कीजिए

जैसे शब्द में अर्थ है जैसे आँख में नीर

ऐसे तुझ में बसा हुआ वो महफ़िल का मीर

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 2

Sarabon Ke Safeer

 

 

Sarabon Ke Safeer