noImage

अक़ील शादाब

अक़ील शादाब के शेर

364
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बराए-नाम सही कोई मेहरबान तो है

हमारे सर पे भी होने को आसमान तो है

ज़िंदगी जिस के तसव्वुर में बसर की हम ने

हाए वो शख़्स हक़ीक़त में कहानी निकला

ज़िंदगी मुझ को मिरी नज़रों में शर्मिंदा कर

मर चुका है जो बहुत पहले उसे ज़िंदा कर

जो अपने आप से बढ़ कर हमारा अपना था

उसे क़रीब से देखा तो दूर का निकला

गुमान ही असासा था यक़ीन का

यक़ीन ही गुमान में नहीं रहा

शायद कोई कमी मेरे अंदर कहीं पे है

मैं आसमाँ पे हूँ मिरा साया ज़मीं पे है

ये और बात कि वो अब यहाँ नहीं रहता

मगर ये उस का बसाया हुआ मकान तो है

हवस का रंग चढ़ा उस पे और उतर भी गया

वो ख़ुद ही जम्अ हुआ और ख़ुद बिखर भी गया

मिरी तलाश में है कोई ऐसा लगता है

किसी का गुम-शुदा 'शादाब' रख़्त हूँ शायद

हुआ जो सहल उस के घर का रास्ता

मज़ा ही कुछ तकान में नहीं रहा

मुझे किसी ने सुना ही नहीं तवज्जोह से

मैं बद-ज़बान सदा-ए-करख़्त हूँ शायद

आँधियाँ सब कुछ उड़ा कर ले गईं

पेड़ पर पत्ता फल दामन में था

था जिस पे मेरी ज़िंदगी का इंहिसार

उसी का नाम ध्यान में नहीं रहा

मैं अपने आप को किस तरह संगसार करूँ

मिरे ख़िलाफ़ मिरा दिल अगर गवाही दे

है लफ़्ज़-ओ-मा'नी का रिश्ता ज़वाल-आमादा

ख़याल पैदा हुआ भी था कि मर भी गया

हर एक लम्हा सरों पे है सानेहा ऐसा

हर एक साँस गुज़रती है हादसात ऐसी