Arsh Siddiqui's Photo'

अर्श सिद्दीक़ी

1927 - 1997 | मुल्तान, पाकिस्तान

ग़ज़ल 45

नज़्म 7

शेर 11

हाँ समुंदर में उतर लेकिन उभरने की भी सोच

डूबने से पहले गहराई का अंदाज़ा लगा

इक तेरी बे-रुख़ी से ज़माना ख़फ़ा हुआ

संग-दिल तुझे भी ख़बर है कि क्या हुआ

  • शेयर कीजिए

हम कि मायूस नहीं हैं उन्हें पा ही लेंगे

लोग कहते हैं कि ढूँडे से ख़ुदा मिलता है

"मुल्तान" के और शायर

  • मोहसिन नक़वी मोहसिन नक़वी
  • ग़ुलाम हुसैन साजिद ग़ुलाम हुसैन साजिद
  • क़मर रज़ा शहज़ाद क़मर रज़ा शहज़ाद
  • ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क
  • वक़ार ख़ान वक़ार ख़ान
  • हिना अंबरीन हिना अंबरीन