Aziz Warsi's Photo'

अज़ीज़ वारसी

1924 - 1989 | दिल्ली, भारत

266
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

दिल में अब कुछ भी नहीं उन की मोहब्बत के सिवा

सब फ़साने हैं हक़ीक़त में हक़ीक़त के सिवा

कैसे मुमकिन है कि हम दोनों बिछड़ जाएँगे

इतनी गहराई से हर बात को सोचा करो

तुम्हारी ज़ात से मंसूब है दीवानगी मेरी

तुम्हीं से अब मिरी दीवानगी देखी नहीं जाती

ग़म-ए-उक़्बा ग़म-ए-दौराँ ग़म-ए-हस्ती की क़सम

और भी ग़म हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा

मोहब्बत लफ़्ज़ तो सादा सा है लेकिन 'अज़ीज़' इस को

मता-ए-दिल समझते थे मता-ए-दिल समझते हैं

मुझ से ये पूछ रहे हैं मिरे अहबाब 'अज़ीज़'

क्या मिला शहर-ए-सुख़न में तुम्हें शोहरत के सिवा

तुम पे इल्ज़ाम जाए सफ़र में कोई

रास्ता कितना ही दुश्वार हो ठहरा करो

इक वक़्त था कि दिल को सुकूँ की तलाश थी

और अब ये आरज़ू है कि दर्द-ए-निहाँ रहे

ख़ुशी महसूस करता हूँ ग़म महसूस करता हूँ

बहर-आलम तुम्हारा ही करम महसूस करता हूँ

मोहतसिब आओ चलें आज तो मय-ख़ाने में

एक जन्नत है वहाँ आप की जन्नत के सिवा

मिरी तक़दीर से पहले सँवरना जिन का मुश्किल है

तिरी ज़ुल्फ़ों में कुछ ऐसे भी ख़म महसूस करता हूँ

जहाँ में हम जिसे भी प्यार के क़ाबिल समझते हैं

हक़ीक़त में उसी को ज़ीस्त का हासिल समझते हैं

तिरी महफ़िल में फ़र्क़-ए-कुफ़्र-ओ-ईमाँ कौन देखेगा

फ़साना ही नहीं कोई तो उनवाँ कौन देखेगा