Deepak Purohit's Photo'

दीपक पुरोहित

1954 | जयपुर, भारत

दीपक पुरोहित

ग़ज़ल 4

 

अशआर 21

अच्छा हुआ ज़बान-ए-ख़मोशी तुम पढ़े

शिकवे मिरे वगर्ना रुलाते तुम्हें बहुत

  • शेयर कीजिए

कि है मुख़्तसर दास्ताँ इश्क़ की

गले मिल के कोई गले पड़ गया

  • शेयर कीजिए

हवस-ए-ज़र ने किया रिश्तों का जो हाल पूछ

ख़ूँ रुलाता है यहाँ ख़ून का रिश्ता अपना

  • शेयर कीजिए

था कभी उन की निगाहों में बुलंद अपना मक़ाम

इतनी ऊँचाई से गिर कर भी कोई बचता है

  • शेयर कीजिए

वतन-परस्ती हमारा मज़हब हैं जिस्म-ओ-जाँ मुल्क की अमानत

करेंगे बरपा क़हर अदू पर रहेगा दाइम वतन सलामत

  • शेयर कीजिए

"जयपुर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए