Aadil Raza Mansoori's Photo'

आदिल रज़ा मंसूरी

1978

प्रसिद्ध समकालीन शायर, साहित्यिक पत्रिका ‘इस्तिफ्सार’ के सम्पादक

प्रसिद्ध समकालीन शायर, साहित्यिक पत्रिका ‘इस्तिफ्सार’ के सम्पादक

ग़ज़ल 8

नज़्म 8

शेर 3

सफ़र के ब'अद भी मुझ को सफ़र में रहना है

नज़र से गिरना भी गोया ख़बर में रहना है

मिरी ख़ामोशियों की झील में फिर

किसी आवाज़ का पत्थर गिरा है

वहाँ शायद कोई बैठा हुआ है

अभी खिड़की में इक जलता दिया है

 

पुस्तकें 11

इस्तिफ़सार

शुमारा नम्बर-003

2014

Khidki Mein Khvaab

 

2011

Khidki Mein Khwab

 

2011

Shumara Number-010,011

2016

Shumara Number-012,013

2017

Kitabi Silsila Number-018,019

2018

Kitabi Silsila-020,021

2019

इस्तिफ़सार

शुमारा नम्बर-004

2014

Shumara Number-018,019

2018

Istifsaar

Shumara Number-014,015

2017

संबंधित शायर

  • मोहम्मद अल्वी मोहम्मद अल्वी समकालीन
  • अभिषेक शुक्ला अभिषेक शुक्ला समकालीन