Akhilesh Tiwari's Photo'

अखिलेश तिवारी

1966 | जयपुर, भारत

ग़ज़ल 24

शेर 13

वह शक्ल वह शनाख़्त वह पैकर की आरज़ू

पत्थर की हो के रह गई पत्थर की आरज़ू

हँसना रोना पाना खोना मरना जीना पानी पर

पढ़िए तो क्या क्या लिक्खा है दरिया की पेशानी पर

सुब्ह-सवेरा दफ़्तर बीवी बच्चे महफ़िल नींदें रात

यार किसी को मुश्किल भी होती है इस आसानी पर

अक़्ल वालों में है गुज़र मेरा

मेरी दीवानगी सँभाल मुझे

हर-दम बदन की क़ैद का रोना फ़ुज़ूल है

मौसम सदाएँ दे तो बिखर जाना चाहिए

हिंदी ग़ज़ल 2

 

पुस्तकें 1

आसमान होने को था

 

2012

 

"जयपुर" के और शायर

  • दिनेश कुमार द्रौण दिनेश कुमार द्रौण
  • बकुल देव बकुल देव
  • चित्रा भारद्वाज सुमन चित्रा भारद्वाज सुमन
  • आशुतोष तिवारी आशुतोष तिवारी
  • भव्य सोनी भव्य सोनी
  • अरविन्द अज़ान अरविन्द अज़ान
  • अफ़ज़ल अली अफ़ज़ल अफ़ज़ल अली अफ़ज़ल
  • दीपक पुरोहित दीपक पुरोहित
  • आदिल रज़ा मंसूरी आदिल रज़ा मंसूरी
  • एजाज़ुलहक़ शहाब एजाज़ुलहक़ शहाब