185
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई था अगर

फिर ये हंगामा मुलाक़ात से पहले क्या था

मैं उम्र को तो मुझे उम्र खींचती है उलट

तज़ाद सम्त का है अस्प और सवार के बीच

नतीजा एक सा निकला दिमाग़ और दिल का

कि दोनों हार गए इम्तिहाँ में दुनिया के

कोई सबब तो है ऐसा कि एक उम्र से हैं

ज़माना मुझ से ख़फ़ा और मैं ज़माने से

अजीब शख़्स था मैं भी भुला नहीं पाया

किया उस ने भी इंकार याद आने से

धूप जवानी का याराना अपनी जगह

थक जाता है जिस्म तो साया माँगता है

हो नहीं पाया है समझौता कभी दोनों के बीच

झूट अंदर से है सच बाहर से उकताया हुआ

दर खोल के देखूँ ज़रा इदराक से बाहर

ये शोर सा कैसा है मिरी ख़ाक से बाहर

क़िस्मत की ख़राबी है कि जाता हूँ ग़लत सम्त

पड़ता है बयाबान बयाबान से आगे

जो क़िस्सा-गो ने सुनाया वही सुना गया है

अगर था इस से सिवा तो नहीं कहा गया है

दिनों महीनों आँखें रोईं नई रुतों की ख़्वाहिश में

रुत बदली तो सूखे पत्ते दहलीज़ों में दर आए

हैरत है सब तलाश पे उस की रहे मुसिर

पाया गया सुराग़ जिस बे-सुराग़ का

सुस्त-रौ मुसाफ़िर की क़िस्मतों पे क्या रोना

तेज़ चलने वाला भी दश्त-ए-बे-अमाँ में है

होता है फिर वो और किसी याद के सुपुर्द

रखता हूँ जो सँभाल के लम्हा फ़राग़ का

चाहा था मफ़र दिल ने मगर ज़ुल्फ़-ए-गिरह-गीर

पेचाक बनाती रही पेचाक से बाहर

हवा के खेल में शिरकत के वास्ते मुझ को

ख़िज़ाँ ने शाख़ से फेंका है रहगुज़ार के बीच

मश्क़-ए-सुख़न में दिल भी हमेशा से है शरीक

लेकिन है इस में काम ज़ियादा दिमाग़ का

बे-सबब जम'अ तो करता नहीं तीर तरकश

कुछ हदफ़ होगा ज़माने की सितमगारी का

नहीं खुलता कि आख़िर ये तिलिस्माती तमाशा सा

ज़मीं के इस तरफ़ और आसमाँ के उस तरफ़ क्या है

उठा रखी है किसी ने कमान सूरज की

गिरा रहा है मिरे रात दिन निशाने से

कुछ देर ठहर और ज़रा देख तमाशा

नापैद हैं ये रौनक़ें इस ख़ाक से बाहर

बुझी नहीं मिरे आतिश-कदे की आग अभी

उठा नहीं है बदन से धुआँ कहाँ गया मैं

अतवार उस के देख के आता नहीं यक़ीं

इंसाँ सुना गया है कि आफ़ाक़ में रहा

पाया कुछ ख़ला के सिवा अक्स-ए-हैरती

गुज़रा था आर-पार हज़ार आइने के साथ

कभी क़तार से बाहर कभी क़तार के बीच

मैं हिज्र-ज़ाद हुआ ख़र्च इंतिज़ार के बीच