Farhat Kanpuri's Photo'

फ़रहत कानपुरी

1905 - 1952 | कानपुर, भारत

ग़ज़ल 10

शेर 6

दिल की राहें जुदा हैं दुनिया से

कोई भी राहबर नहीं होता

आँखों में बसे हो तुम आँखों में अयाँ हो कर

दिल ही में रह जाओ आँखों से निहाँ हो कर

दुनिया ने ख़ूब समझा दुनिया ने ख़ूब परखा

मेरी नज़र को देखा जब आप की नज़र से

  • शेयर कीजिए

रुबाई 2

 

पुस्तकें 1

नर्म झोंकों की सदा

शेरी मजमूआ

2008

 

"कानपुर" के और शायर

  • ज़ेब ग़ौरी ज़ेब ग़ौरी
  • मोहम्मद अहमद रम्ज़ मोहम्मद अहमद रम्ज़
  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी
  • शोएब निज़ाम शोएब निज़ाम
  • मयंक अवस्थी मयंक अवस्थी
  • अबुल हसनात हक़्क़ी अबुल हसनात हक़्क़ी
  • असलम महमूद असलम महमूद
  • नामी अंसारी नामी अंसारी
  • चाँदनी पांडे चाँदनी पांडे
  • क़ौसर जायसी क़ौसर जायसी