Nushur Wahidi's Photo'

नुशूर वाहिदी

1912 - 1983 | कानपुर, भारत

ग़ज़ल 55

नज़्म 6

शेर 32

दिया ख़ामोश है लेकिन किसी का दिल तो जलता है

चले आओ जहाँ तक रौशनी मा'लूम होती है

the lamp's extinguised but someone's heart

अंजाम-ए-वफ़ा ये है जिस ने भी मोहब्बत की

मरने की दुआ माँगी जीने की सज़ा पाई

  • शेयर कीजिए

हज़ार शम्अ फ़रोज़ाँ हो रौशनी के लिए

नज़र नहीं तो अंधेरा है आदमी के लिए

पुस्तकें 32

Aatish-o-Nam

 

1984

Ashk-e-Chakan Se Asr-e-Rawan Tak

 

2000

Atish-o-Nam

 

1998

Atish-o-Nam

 

 

Azm-e-Mohkam

 

1999

Danish Akhiruzzaman

 

2009

फ़रोग़-ए-जाम

 

1969

Gul Afshani-e-Guftar

 

1977

गुल-अफ़्शानी-ए-गुफ़्तार

 

2013

Hindustan Mein Falsafa-e-Khudi Ka Irtiqa

 

1993

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Urdu Ghazal - Saqi ki begana rawish par kya ilzam lagaya jaaey

नुशूर वाहिदी

अपनी दुनिया ख़ुद ब-फ़ैज़-ए-ग़म बना सकता हूँ मैं

नुशूर वाहिदी

कभी सुनते हैं अक़्ल-ओ-होश की और कम भी पीते हैं

नुशूर वाहिदी

ऑडियो 9

आग़ोश-ए-रंग-ओ-बू के फ़साने में कुछ नहीं

चिलमन से जो दामन के किनारे निकल आए

नई दुनिया मुजस्सम दिलकशी मालूम होती है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी समकालीन

"कानपुर" के और शायर

  • ज़ेब ग़ौरी ज़ेब ग़ौरी
  • मतीन नियाज़ी मतीन नियाज़ी
  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी
  • मयंक अवस्थी मयंक अवस्थी
  • अबुल हसनात हक़्क़ी अबुल हसनात हक़्क़ी
  • असलम महमूद असलम महमूद