Abul Hasanat Haqqi's Photo'

अबुल हसनात हक़्क़ी

कानपुर, भारत

ग़ज़ल 22

शेर 30

ये सच है उस से बिछड़ कर मुझे ज़माना हुआ

मगर वो लौटना चाहे तो फिर ज़माना भी क्या

मैं अपनी माँ के वसीले से ज़िंदा-तर ठहरूँ

कि वो लहू मिरे सब्र-ओ-रज़ा में रौशन है

बे-नियाज़-ए-दहर कर देता है इश्क़

बे-ज़रों को लाल-ओ-ज़र देता है इश्क़

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Bikhre Lamhon Ki Dua

 

1986

 

वीडियो 9

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अबुल हसनात हक़्क़ी

अबुल हसनात हक़्क़ी

अबुल हसनात हक़्क़ी

अबुल हसनात हक़्क़ी

तमाम हिज्र उसी का विसाल है उस का

अबुल हसनात हक़्क़ी

दिल को हम दरिया कहें मंज़र-निगारी और क्या

अबुल हसनात हक़्क़ी

बे-नियाज़ दहर कर देता है इश्क़

अबुल हसनात हक़्क़ी

शब को हर रंग में सैलाब तुम्हारा देखें

अबुल हसनात हक़्क़ी

शिकस्त-ए-अहद पर इस के सिवा बहाना भी क्या

अबुल हसनात हक़्क़ी

ऑडियो 3

तमाम हिज्र उसी का विसाल है उस का

शिकस्त-ए-अहद पर इस के सिवा बहाना भी क्या

बे-नियाज़ दहर कर देता है इश्क़

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

 

संबंधित शायर

  • साक़िब कानपुरी साक़िब कानपुरी पिता
  • साक़िब कानपुरी साक़िब कानपुरी पिता

"कानपुर" के और शायर

  • ज़ेब ग़ौरी ज़ेब ग़ौरी
  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी
  • मोहम्मद अहमद रम्ज़ मोहम्मद अहमद रम्ज़
  • मयंक अवस्थी मयंक अवस्थी
  • असलम महमूद असलम महमूद
  • नामी अंसारी नामी अंसारी
  • इशरत ज़फ़र इशरत ज़फ़र
  • चाँदनी पांडे चाँदनी पांडे
  • फ़रहत कानपुरी फ़रहत कानपुरी
  • क़ौसर जायसी क़ौसर जायसी