259
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बच्चों के साथ आज उसे देखा तो दुख हुआ

उन में से कोई एक भी माँ पर नहीं गया

जुदाई की रुतों में सूरतें धुँदलाने लगती हैं

सो ऐसे मौसमों में आइना देखा नहीं करते

धड़कती क़ुर्बतों के ख़्वाब से जागे तो जाना

ज़रा से वस्ल ने कितना अकेला कर दिया है

मोहब्बतें तो फ़क़त इंतिहाएँ माँगती हैं

मोहब्बतों में भला ए'तिदाल क्या करना

हमारी जेब में ख़्वाबों की रेज़गारी है

सो लेन-देन हमारा दुकाँ से बाहर है

इरादा था कि अब के रंग-ए-दुनिया देखना है

ख़बर क्या थी कि अपना ही तमाशा देखना है

तअल्लुक़ तोड़ने में पहल मुश्किल मरहला था

चलो हम ने तुम्हारा बोझ हल्का कर दिया है

तुझ से बिछड़ के सम्त-ए-सफ़र भूलने लगे

फिर यूँ हुआ हम अपना ही घर भूलने लगे

उस का फ़िराक़ इतना बड़ा सानेहा था

लेकिन ये दुख पहाड़ बराबर लगा हमें

मैं तर्क-ए-तअल्लुक़ पे भी आमादा हूँ लेकिन

तू भी तो मिरा क़र्ज़-ए-ग़म-ए-हिज्र अदा कर

ये कार-ए-इश्क़ तो बच्चों का खेल ठहरा है

सो कार-ए-इश्क़ में कोई कमाल क्या करना

शाम-ए-विदाअ थी मगर उस रंग-बाज़ ने

पाँव पे होंट रख दिए जाने नहीं दिया

क्या शख़्स था उड़ाता रहा उम्र भर मुझे

लेकिन हवा से हाथ मिलाने नहीं दिया

सिवा तेरे हर इक शय को हटा देना है मंज़र से

और इस के ब'अद ख़ुद को बे-सर-ओ-सामान करना है

हमेशा इक मसाफ़त घूमती रहती है पाँव में

सफ़र के ब'अद भी कुछ लोग घर पहुँचा नहीं करते

किस को थी ख़बर इस में तड़ख़ जाएगा दिल भी

हम ख़ुश थे बहुत सेहन में दीवार उठा कर

आँखों से ख़्वाब दिल से तमन्ना तमाम-शुद

तुम क्या गए कि शौक़-ए-नज़ारा तमाम-शुद

मकीं यहीं का है लेकिन मकाँ से बाहर है

अभी वो शख़्स मिरी दास्ताँ से बाहर है

सवाल ये नहीं मुझ से है क्यूँ गुरेज़ाँ वो

सवाल ये है कि क्यूँ जिस्म जाँ से बाहर है

मैं फिर इक ख़त तिरे आँगन गिराना चाहता हूँ

मुझे फिर से तिरा रंग-ए-बुरीदा देखना है