noImage

हज़ीं सिद्दीक़ी

1922 - 1955 | मुल्तान, पाकिस्तान

हज़ीं सिद्दीक़ी

अशआर 1

फिर इशारों से बुलाते हैं वो अपनी जानिब

और जो ये भी निगह-ए-शौक़ का धोका निकला

  • शेयर कीजिए
 

"मुल्तान" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए