Iqbal Ashhar's Photo'

इक़बाल अशहर

1965 | दिल्ली, भारत

सबसे लोकप्रिय शायरों में शामिल, मुशायरों का ज़रूरी हिस्सा।

सबसे लोकप्रिय शायरों में शामिल, मुशायरों का ज़रूरी हिस्सा।

3.03K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

वो किसी को याद कर के मुस्कुराया था उधर

और मैं नादान ये समझा कि वो मेरा हुआ

आज फिर नींद को आँखों से बिछड़ते देखा

आज फिर याद कोई चोट पुरानी आई

मुद्दतों ब'अद मयस्सर हुआ माँ का आँचल

मुद्दतों ब'अद हमें नींद सुहानी आई

सोचता हूँ तिरी तस्वीर दिखा दूँ उस को

रौशनी ने कभी साया नहीं देखा अपना

जाने कितने चराग़ों को मिल गई शोहरत

इक आफ़्ताब के बे-वक़्त डूब जाने से

ठहरी ठहरी सी तबीअत में रवानी आई

आज फिर याद मोहब्बत की कहानी आई

वही तो मरकज़ी किरदार है कहानी का

उसी पे ख़त्म है तासीर बेवफ़ाई की

सताया आज मुनासिब जगह पे बारिश ने

इसी बहाने ठहर जाएँ उस का घर है यहाँ

किसी को खो के पा लिया किसी को पा के खो दिया

इंतिहा ख़ुशी की है इंतिहा मलाल की

प्यास दरिया की निगाहों से छुपा रक्खी है

एक बादल से बड़ी आस लगा रक्खी है

ले गईं दूर बहुत दूर हवाएँ जिस को

वही बादल था मिरी प्यास बुझाने वाला

तेरी बातों को छुपाना नहीं आता मुझ से

तू ने ख़ुश्बू मिरे लहजे में बसा रक्खी है

सभी अपने नज़र आते हैं ब-ज़ाहिर लेकिन

रूठने वाला है कोई मनाने वाला

आरज़ू है सूरज को आइना दिखाने की

रौशनी की सोहबत में एक दिन गुज़ारा है

फिर तिरा ज़िक्र किया बाद-ए-सबा ने मुझ से

फिर मिरे दिल को धड़कने के बहाने आए

सुनो समुंदर की शोख़ लहरो हवाएँ ठहरी हैं तुम भी ठहरो

वो दूर साहिल पे एक बच्चा अभी घरौंदे बना रहा है

तेरे किरदार को इतना तो शरफ़ हासिल है

तू नहीं था तो कहानी में हक़ीक़त कम थी

मुद्दतों ब'अद पशेमाँ हुआ दरिया हम से

मुद्दतों ब'अद हमें प्यास छुपानी आई

जो उस के होंटों की जुम्बिश में क़ैद था 'अशहर'

वो एक लफ़्ज़ बना बोझ मेरे शानों का

'अशहर' बहुत सी पत्तियाँ शाख़ों से छिन गईं

तफ़्सीर क्या करें कि हवा तेज़ अब भी है

वैसे भी उस से कोई रब्त रक्खा मैं ने

यूँ भी दुनिया में कशिश तेरी ब-निसबत कम थी