Iqbal Sajid's Photo'

इक़बाल साजिद

1932 - 1988 | लाहौर, पाकिस्तान

लोकप्रिय पाकिस्तानी शायर , कम उम्र में देहांत

लोकप्रिय पाकिस्तानी शायर , कम उम्र में देहांत

वो चाँद है तो अक्स भी पानी में आएगा

किरदार ख़ुद उभर के कहानी में आएगा

प्यासो रहो दश्त में बारिश के मुंतज़िर

मारो ज़मीं पे पाँव कि पानी निकल पड़े

अपनी अना की आज भी तस्कीन हम ने की

जी भर के उस के हुस्न की तौहीन हम ने की

सूरज हूँ ज़िंदगी की रमक़ छोड़ जाऊँगा

मैं डूब भी गया तो शफ़क़ छोड़ जाऊँगा

एक भी ख़्वाहिश के हाथों में मेहंदी लग सकी

मेरे जज़्बों में दूल्हा बन सका अब तक कोई

अब तू दरवाज़े से अपने नाम की तख़्ती उतार

लफ़्ज़ नंगे हो गए शोहरत भी गाली हो गई

होते ही शाम जलने लगा याद का अलाव

आँसू सुनाने दुख की कहानी निकल पड़े

मैं तिरे दर का भिकारी तू मिरे दर का फ़क़ीर

आदमी इस दौर में ख़ुद्दार हो सकता नहीं

मिले मुझे भी अगर कोई शाम फ़ुर्सत की

मैं क्या हूँ कौन हूँ सोचूँगा अपने बारे में

ग़ुर्बत की तेज़ आग पे अक्सर पकाई भूक

ख़ुश-हालियों के शहर में क्या कुछ नहीं किया

वो बोलता था मगर लब नहीं हिलाता था

इशारा करता था जुम्बिश थी इशारे में

पिछले बरस भी बोई थीं लफ़्ज़ों की खेतियाँ

अब के बरस भी इस के सिवा कुछ नहीं किया

अन्दर थी जितनी आग वो ठंडी हो सकी

पानी था सिर्फ़ घास के ऊपर पड़ा हुआ

मैं आईना बनूँगा तू पत्थर उठाएगा

इक दिन खुली सड़क पे ये नौबत भी आएगी

उस ने भी कई रोज़ से ख़्वाहिश नहीं ओढ़ी

मैं ने भी कई दिन से इरादा नहीं पहना

मारा किसी ने संग तो ठोकर लगी मुझे

देखा तो आसमाँ था ज़मीं पर पड़ा हुआ

मिरे घर से ज़ियादा दूर सहरा भी नहीं लेकिन

उदासी नाम ही लेती नहीं बाहर निकलने का

मोम की सीढ़ी पे चढ़ कर छू रहे थे आफ़्ताब

फूल से चेहरों को ये कोशिश बहुत महँगी पड़ी

दरवेश नज़र आता था हर हाल में लेकिन

'साजिद' ने लिबास इतना भी सादा नहीं पहना

ये तिरे अशआर तेरी मानवी औलाद हैं

अपने बच्चे बेचना 'इक़बाल-साजिद' छोड़ दे

सूरज हूँ चमकने का भी हक़ चाहिए मुझ को

मैं कोहर में लिपटा हूँ शफ़क़ चाहिए मुझ को

पढ़ते पढ़ते थक गए सब लोग तहरीरें मिरी

लिखते लिखते शहर की दीवार काली हो गई

जैसे हर चेहरे की आँखें सर के पीछे लगीं

सब के सब उल्टे ही क़दमों से सफ़र करने लगे

रोए हुए भी उन को कई साल हो गए

आँखों में आँसुओं की नुमाइश नहीं हुई

सज़ा तो मिलना थी मुझ को बरहना लफ़्ज़ों की

ज़बाँ के साथ लबों को रफ़ू भी होना था

मैं ख़ून बहा कर भी हुआ बाग़ में रुस्वा

उस गुल ने मगर काम पसीने से निकाला

बढ़ गया है इस क़दर अब सुर्ख़-रू होने का शौक़

लोग अपने ख़ून से जिस्मों को तर करने लगे

प्यार करने भी पाया था कि रुस्वाई मिली

जुर्म से पहले ही मुझ को संग-ए-ख़म्याज़ा लगा

'साजिद' तू फिर से ख़ाना-ए-दिल में तलाश कर

मुमकिन है कोई याद पुरानी निकल पड़े

मुसलसल जागने के बाद ख़्वाहिश रूठ जाती है

चलन सीखा है बच्चे की तरह उस ने मचलने का

कट गया जिस्म मगर साए तो महफ़ूज़ रहे

मेरा शीराज़ा बिखर कर भी मिसाली निकला

मिरे ही हर्फ़ दिखाते थे मेरी शक्ल मुझे

ये इश्तिहार मिरे रू-ब-रू भी होना था

मुझ पे पत्थर फेंकने वालों को तेरे शहर में

नर्म-ओ-नाज़ुक हाथ भी देते हैं पत्थर तोड़ कर

बगूला बन के समुंदर में ख़ाक उड़ाना था

कि लहर लहर मुझे तुंद-ख़ू भी होना था

फ़िक्र-ए-मेआर-ए-सुख़न बाइस-ए-आज़ार हुई

तंग रक्खा तो हमें अपनी क़बा ने रक्खा