ग़ज़ल 1

 

शेर 1

कभी कभी कोई भेजता है नज़र में चाहत की फूल कलियाँ

मोहब्बतों का नसीब ठहरा कभी कभी का उदास रहना

 

"कानपुर" के और शायर

  • मयंक अवस्थी मयंक अवस्थी
  • चाँदनी पांडे चाँदनी पांडे
  • अनीता मौर्या अनुश्री अनीता मौर्या अनुश्री
  • ख़ुर्शीद अफ़सर बसवानी ख़ुर्शीद अफ़सर बसवानी
  • अंसार कंबरी अंसार कंबरी
  • वहशी कानपुरी वहशी कानपुरी
  • उमर फ़ारूक़ उमर फ़ारूक़
  • अशरफ़ बाक़री अशरफ़ बाक़री
  • आनन्द पांडेय तन्हा आनन्द पांडेय तन्हा
  • तौसीफ़ अहमद तौसीफ़ अहमद