Jagdish Sahay Saxena's Photo'

जगदीश सहाय सक्सेना

शाहजहाँपुर, भारत

उल्फ़त की थीं दलील तिरी बद-गुमानियाँ

अब बद-गुमान मैं हूँ कि तू बद-गुमाँ नहीं

हुई थी इक ख़ता सरज़द सो उस को मुद्दतें गुज़रीं

मगर अब तक मिरे दिल से पशेमानी नहीं जाती

है ये तक़दीर की ख़ूबी कि निगाह-ए-मुश्ताक़

पर्दा बन जाए अगर पर्दा-नशीं तक पहुँचे

रंज अलम का लुत्फ़ उठाने के वास्ते

राहत से भी निबाह किए जा रहा हूँ मैं

हुजूम-ए-रंज-ओ-ग़म ने इस क़दर मुझ को रुलाया है

कि अब राहत की सूरत मुझ से पहचानी नहीं जाती