जमील नक़वी के शेर

टिमटिमाते रहें बुझती हुई यादों के चराग़

दिल की वीरानी पे गर आप को इसरार हो