189
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

तुझे कुछ उस की ख़बर भी है भूलने वाले

किसी को याद तेरी बार बार आई है

वो मिल सके याद तो है उन की सलामत

इस याद से भी हम ने बहुत काम लिया है

चंद लम्हों के लिए एक मुलाक़ात रही

फिर वो तू वो मैं और वो रात रही

उस ने इख़्लास के मारे हुए दीवाने को

एक आवारा बदनाम सा शायर जाना

मसीहा कभी तू भी तो उसे देखने

तेरे बीमार को सुनते हैं कि आराम नहीं

ज़रूर तेरी गली से गुज़र हुआ होगा

कि आज बाद-ए-सबा बे-क़रार आई है

हाल-ए-दिल उस को सुना कर है बहुत ख़ुश 'कौसर'

लेकिन अब सोच ज़रा क्या तिरी औक़ात रही

बे-सबब आज आँख पुर-नम है

जाने किस बात का मुझे ग़म है

ये दर्द कि है तेरी मोहब्बत की अमानत

मर जाएँगे इस दर्द का दरमाँ करेंगे

तबाही की घड़ी शायद ज़माने पर नहीं आई

अभी अपने किए पर आदमी शर्मा ही जाता है

अपने वहशत-ज़दा कमरे की इक अलमारी में

तेरी तस्वीर अक़ीदत से सजा रक्खी है

जज़्बात में कर मरना तो मुश्किल सी कोई मुश्किल ही नहीं

जान-ए-जहाँ हम तेरे लिए जीना भी गवारा करते हैं

परखने वाले मुझे देख इस तरह भी ज़रा

अगर है खोट तो कैसे चमक रहा हूँ मैं

हर मरहला-ए-ग़म में मिली इस से तसल्ली

हर मोड़ पे घबरा के तिरा नाम लिया है

बर-सर-ए-आम इक़रार अगर ना-मुम्किन है तो यूँही सही

कम-अज़-कम इदराक तो कर ले गुन बे-शक मत मान मिरे

मंजधार में नाव डूब गई तो मौजों से आवाज़ आई

दरिया-ए-मोहब्बत से 'कौसर' यूँ पार उतारा करते हैं

मैं ने हर गाम उसे अव्वल आख़िर जाना

लेकिन उस ने मुझे लम्हों का मुसाफ़िर जाना