noImage

कौसर सीवानी

1933

कौसर सीवानी

ग़ज़ल 10

अशआर 8

मैं तो क़ाबिल था उन के दीदार के

उन की चौखट पे मेरी ख़ता ले गई

  • शेयर कीजिए

ज़िंदगी कुछ तो भरम रख ले वफ़ादारी का

तुझ को मर मर के शब-ओ-रोज़ सँवारा है बहुत

  • शेयर कीजिए

हमें जो फ़िक्र की दावत दे सके 'कौसर'

वो शेर शेर तो है रूह-ए-शाएरी तो नहीं

  • शेयर कीजिए

जो तोड़ दोगे मुझे तुम भी टूट जाओगे

कि इर्तिबात-ए-सलासिल की इक कड़ी हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

क्या दिल की प्यास थी कि बुझाई जा सकी

बादल निचोड़ के समुंदर तराश के

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए