Madan Mohan Danish's Photo'

मदन मोहन दानिश

1960 | ग्वालियर, भारत

ग़ज़ल 15

शेर 2

ये हासिल है मिरी ख़ामोशियों का

कि पत्थर आज़माने लग गए हैं

  • शेयर कीजिए

ये नादानी नहीं तो क्या है 'दानिश'

समझना था जिसे समझा रहा हूँ

  • शेयर कीजिए
 

चित्र शायरी 2

है इंतिज़ार मुक़द्दर तो इंतिज़ार करो पर अपने दिल की फ़ज़ा को भी ख़ुश-गवार करो तुम्हारे पीछे लगी हैं उदासियाँ कब से किसी पड़ाव पर रुक कर इन्हें शिकार करो हमारे ख़्वाबों का दर खटखटाती रहती हैं तुम अपनी यादों को समझाओ होशियार करो भली लगेगी यही ज़िंदगी अगर उस में ख़याल-ओ-ख़्वाब की दुनिया को भी शुमार करो भरोसा बा'द में कर लेना सारी दुनिया पर तुम अपने आप पर तो पहले ए'तिबार करो

आधी आग और आधा पानी हम दोनों जलती-बुझती एक कहानी हम दोनों मंदिर मस्जिद गिरिजा-घर और गुरुद्वारा लफ़्ज़ कई हैं एक मआ'नी हम दोनों रूप बदल कर नाम बदल कर आते हैं फ़ानी हो कर भी ला-फ़ानी हम दोनों ज्ञानी ध्यानी चतुर सियानी दुनिया में जीते हैं अपनी नादानी हम दोनों आधा आधा बाँट के जीते रहते हैं रौनक़ हो या हो वीरानी हम दोनों नज़र लगे ना अपनी जगमग दुनिया को करते रहते हैं निगरानी हम दोनों ख़्वाबों का इक नगर बसा लेते हैं रोज़ और बन जाते हैं सैलानी हम दोनों तू सावन की शोख़ घटा में प्यासा बन चल करते हैं कुछ मन-मानी हम दोनों इक-दूजे को रोज़ सुनाते हैं 'दानिश' अपनी अपनी राम-कहानी हम दोनों

 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

मदन मोहन दानिश

और क्या आख़िर तुझे ऐ ज़िंदगानी चाहिए

मदन मोहन दानिश

कोई ये लाख कहे मेरे बनाने से मिला

मदन मोहन दानिश

हर एक लम्हा मिरी आग में गुज़ारे कोई

मदन मोहन दानिश

"ग्वालियर" के और शायर

  • मुज़्तर ख़ैराबादी मुज़्तर ख़ैराबादी
  • शकील ग्वालियरी शकील ग्वालियरी
  • ज्योती आज़ाद खतरी ज्योती आज़ाद खतरी
  • नज़ीर नज़र नज़ीर नज़र
  • अख़्तर नज़्मी अख़्तर नज़्मी
  • सतीश दुबे सत्यार्थ सतीश दुबे सत्यार्थ