Makhmoor Dehlvi's Photo'

मख़मूर देहलवी

1900 - 1956 | दिल्ली, भारत

प्रतिष्ठित शायर, अपने शेर " मोहब्बत के लिए कुछ ख़ास दिल मख़सूस होते हैं " के लिए मशहूर

प्रतिष्ठित शायर, अपने शेर " मोहब्बत के लिए कुछ ख़ास दिल मख़सूस होते हैं " के लिए मशहूर

मख़मूर देहलवी

ग़ज़ल 8

शेर 11

मोहब्बत के लिए कुछ ख़ास दिल मख़्सूस होते हैं

ये वो नग़्मा है जो हर साज़ पर गाया नहीं जाता

किसे अपना बनाएँ कोई इस क़ाबिल नहीं मिलता

यहाँ पत्थर बहुत मिलते हैं लेकिन दिल नहीं मिलता

मोहब्बत बद-गुमाँ हो जाए तो ज़िंदा नहीं रहती

असर दिल पर तुम्हारी बे-रुख़ी से कुछ नहीं होता

मोहब्बत हो तो जाती है मोहब्बत की नहीं जाती

ये शोअ'ला ख़ुद भड़क उठता है भड़काया नहीं जाता

  • शेयर कीजिए

मुसाफ़िर अपनी मंज़िल पर पहुँच कर चैन पाते हैं

वो मौजें सर पटकती हैं जिन्हें साहिल नहीं मिलता

पुस्तकें 4

Bada-e-Makhmoor

Tanveer-e-Maikhana

1953

Irfan-e-Makhmur

 

1957

Kulliyat-e-Makhmoor

 

 

Makhmoor Dehlwi Hayat-o-Shaeri

 

1998

 

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन