Bahadur Shah Zafar's Photo'

बहादुर शाह ज़फ़र

1775 - 1862

आख़िरी मुग़ल बादशाह। ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन

आख़िरी मुग़ल बादशाह। ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन

ग़ज़ल 51

शेर 55

तुम ने किया याद कभी भूल कर हमें

हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया

you did not ever think of me even by mistake

and in your thoughts everything else I did forsake

you did not ever think of me even by mistake

and in your thoughts everything else I did forsake

  • शेयर कीजिए

कोई क्यूँ किसी का लुभाए दिल कोई क्या किसी से लगाए दिल

वो जो बेचते थे दवा-ए-दिल वो दुकान अपनी बढ़ा गए

  • शेयर कीजिए

कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें

इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़-दार में

tell all my desires to go find another place

in this scarred heart alas there isn't enough space

tell all my desires to go find another place

in this scarred heart alas there isn't enough space

ई-पुस्तक 54

बहादुर शाह का मुक़द्दमा

 

 

Bahadur Shah Zafar

 

2012

बहादुर शाह ज़फ़र

 

1986

Bahadur Shah Zafar Aur 1857

 

2011

Bahadur Shah Zafar Aur Unka Ahd

 

 

Bahadur Shah Zafar Ka Afsana-e-Gham

 

1989

बहादुर शाह का रोज़नामचा

खण्ड-009

1935

बयाज़-ए-ज़फ़र

 

1994

Bazm-e-Firdaus Mein Yaum-e-Hazrat Bahadur Shah Zafar

Ak Tamsili Jannati Mushaera

1965

दीवान-ए-ज़फ़र

 

2002

चित्र शायरी 11

वीडियो 22

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Aa Kar Ke Meri Kabr Par - Bahadur Shah Zafar

अज्ञात

Ja kahiyo unhi se naseem-e-sahar

सुदीप बनर्जी

Yaar Tha Gulzaar Tha Mai Thi Fazaa Thi

आबिदा परवीन

Yaar Tha Gulzar Tha (Poet:Bahadur Shah Zafar) Singer:Abida Parveen

आबिदा परवीन

मेहदी हसन

गई यक-ब-यक जो हवा पलट नहीं दिल को मेरे क़रार है

मुकेश

नहीं इश्क़ में इस का तो रंज हमें कि क़रार ओ शकेब ज़रा न रहा

हबीब वली मोहम्मद

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी

गायत्री अशोकन

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी

अज्ञात

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी

भारती विश्वनाथन

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी

रुना लैला

या मुझे अफ़सर-ए-शाहाना बनाया होता

मेहदी हसन

या मुझे अफ़सर-ए-शाहाना बनाया होता

हबीब वली मोहम्मद

लगता नहीं है दिल मिरा उजड़े दयार में

मोहम्मद रफ़ी

लगता नहीं है दिल मिरा उजड़े दयार में

मोहम्मद रफ़ी

शमशीर-ए-बरहना माँग ग़ज़ब बालों की महक फिर वैसी ही

हबीब वली मोहम्मद

लगता नहीं है दिल मिरा उजड़े दयार में

हबीब वली मोहम्मद

ऑडियो 23

करेंगे क़स्द हम जिस दम तुम्हारे घर में आवेंगे

ख़्वाह कर इंसाफ़ ज़ालिम ख़्वाह कर बेदाद तू

गालियाँ तनख़्वाह ठहरी है अगर बट जाएगी

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ समकालीन
  • मीर तस्कीन देहलवी मीर तस्कीन देहलवी समकालीन
  • मीर अनीस मीर अनीस समकालीन
  • मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता समकालीन
  • तअशशुक़ लखनवी तअशशुक़ लखनवी समकालीन
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब समकालीन
  • सख़ी लख़नवी सख़ी लख़नवी समकालीन
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा समकालीन
  • वाजिद अली शाह अख़्तर वाजिद अली शाह अख़्तर समकालीन
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन समकालीन

Added to your favorites

Removed from your favorites