मंसूर उमर

पुस्तकें 8

 

"दरभंगा" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए