Manzoor Hashmi's Photo'

मंज़ूर हाशमी

1935 - 2008 | अलीगढ़, भारत

ग़ज़ल 18

शेर 27

क़ुबूल कैसे करूँ उन का फ़ैसला कि ये लोग

मिरे ख़िलाफ़ ही मेरा बयान माँगते हैं

यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है

हवा की ओट भी ले कर चराग़ जलता है

कभी कभी तो किसी अजनबी के मिलने पर

बहुत पुराना कोई सिलसिला निकलता है

  • शेयर कीजिए

सुना है सच्ची हो नीयत तो राह खुलती है

चलो सफ़र करें कम से कम इरादा करें

इसी उमीद पे बरसें गुज़ार दीं हम ने

वो कह गया था कि मौसम पलट के आते हैं

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 4

Aab

 

1994

बारिश

 

1981

Barish

 

1981

Daire

Shumara Number-003

1986

 

चित्र शायरी 1

कभी कभी तो किसी अजनबी के मिलने पर बहुत पुराना कोई सिलसिला निकलता है

 

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
At a mushaira

मंज़ूर हाशमी

Reading some sher at a mushaira

मंज़ूर हाशमी

wo teer chhoda hua to usi kamaan ka tha

मंज़ूर हाशमी

"अलीगढ़" के और शायर

  • अख़्तर अंसारी अख़्तर अंसारी
  • सय्यद अमीन अशरफ़ सय्यद अमीन अशरफ़
  • शहरयार शहरयार
  • आशुफ़्ता चंगेज़ी आशुफ़्ता चंगेज़ी
  • राहत हसन राहत हसन
  • ख़लील-उर-रहमान आज़मी ख़लील-उर-रहमान आज़मी
  • अहसन मारहरवी अहसन मारहरवी
  • मुईद रशीदी मुईद रशीदी
  • जमुना प्रसाद राही जमुना प्रसाद राही
  • साजिदा ज़ैदी साजिदा ज़ैदी