Danish Aligarhi's Photo'

दानिश अलीगढ़ी

1931 | अलीगढ़, भारत

ग़ज़ल 5

 

शेर 8

हो के मजबूर ये बच्चों को सबक़ देना है

अब क़लम छोड़ के तलवार उठा ली जाए

तेरे फ़िराक़ ने की ज़िंदगी अता मुझ को

तेरा विसाल जो मिलता तो मर गया होता

मुस्कुरा कर उन का मिलना और बिछड़ना रूठ कर

बस यही दो लफ़्ज़ इक दिन दास्ताँ हो जाएँगे

ई-पुस्तक 1

Qalam Ka Safar

 

1979

 

संबंधित शायर

  • सबा अफ़ग़ानी सबा अफ़ग़ानी गुरु

"अलीगढ़" के और शायर

  • जमुना प्रसाद राही जमुना प्रसाद राही
  • सिराज अजमली सिराज अजमली
  • शोला अलीगढ़ी शोला अलीगढ़ी
  • ज़ाहिदा ज़ैदी ज़ाहिदा ज़ैदी
  • मुईद रशीदी मुईद रशीदी
  • नसीम सिद्दीक़ी नसीम सिद्दीक़ी
  • सय्यद अमीन अशरफ़ सय्यद अमीन अशरफ़
  • मंज़ूर हाशमी मंज़ूर हाशमी
  • साजिदा ज़ैदी साजिदा ज़ैदी
  • वारिस किरमानी वारिस किरमानी