Danish Aligarhi's Photo'

दानिश अलीगढ़ी

1931 | अलीगढ़, भारत

ग़ज़ल 5

 

शेर 8

मुस्कुरा कर उन का मिलना और बिछड़ना रूठ कर

बस यही दो लफ़्ज़ इक दिन दास्ताँ हो जाएँगे

हो के मजबूर ये बच्चों को सबक़ देना है

अब क़लम छोड़ के तलवार उठा ली जाए

तेरे फ़िराक़ ने की ज़िंदगी अता मुझ को

तेरा विसाल जो मिलता तो मर गया होता

पुस्तकें 1

Qalam Ka Safar

 

1979

 

संबंधित शायर

  • सबा अफ़ग़ानी सबा अफ़ग़ानी गुरु

"अलीगढ़" के और शायर

  • शहरयार शहरयार
  • वफ़ा नक़वी वफ़ा नक़वी
  • मुईन अहसन जज़्बी मुईन अहसन जज़्बी
  • आशुफ़्ता चंगेज़ी आशुफ़्ता चंगेज़ी
  • राहत हसन राहत हसन
  • असअ'द बदायुनी असअ'द बदायुनी
  • ख़लील-उर-रहमान आज़मी ख़लील-उर-रहमान आज़मी
  • अख़्तर अंसारी अख़्तर अंसारी
  • वहीद अख़्तर वहीद अख़्तर
  • अहसन मारहरवी अहसन मारहरवी