Saba Afghani's Photo'

सबा अफ़ग़ानी

1920 - 1986 | रामपुर, भारत

ग़ज़ल के शायर और फ़िल्मी गीतकार

ग़ज़ल के शायर और फ़िल्मी गीतकार

ग़ज़ल 7

शेर 3

गुलशन की फ़क़त फूलों से नहीं काँटों से भी ज़ीनत होती है

जीने के लिए इस दुनिया में ग़म की भी ज़रूरत होती है

जो के रुके दामन पे 'सबा' वो अश्क नहीं है पानी है

जो अश्क छलके आँखों से उस अश्क की क़ीमत होती है

करना ही पड़ेगा ज़ब्त-ए-अलम पीने ही पड़ेंगे ये आँसू

फ़रियाद-ओ-फ़ुग़ाँ से नादाँ तौहीन-ए-मोहब्बत होती है

 

पुस्तकें 2

Rang Roop

 

1971

Saaz-e-Shikasta

 

 

 

संबंधित शायर

  • दानिश अलीगढ़ी दानिश अलीगढ़ी शिष्य

"रामपुर" के और शायर

  • शौक़ असर रामपुरी शौक़ असर रामपुरी
  • उरूज क़ादरी उरूज क़ादरी
  • मोहम्मद यूसुफ़ अली ख़ाँ नाज़िम रामपुरी मोहम्मद यूसुफ़ अली ख़ाँ नाज़िम रामपुरी
  • ताहिर फ़राज़ ताहिर फ़राज़
  • साक़िब रामपुरी साक़िब रामपुरी
  • सईदा जहाँ मख़्फ़ी सईदा जहाँ मख़्फ़ी
  • दौर आफ़रीदी दौर आफ़रीदी
  • होश नोमानी रामपुरी होश नोमानी रामपुरी
  • माैज रामपुरी माैज रामपुरी
  • सीन शीन आलम सीन शीन आलम