मरग़ूब अली

ग़ज़ल 14

शेर 11

भीगी मिट्टी की महक प्यास बढ़ा देती है

दर्द बरसात की बूँदों में बसा करता है

  • शेयर कीजिए

मुझ को बर्बाद ख़ुद ही होना था

तुम पे इल्ज़ाम बे-सबब आए

  • शेयर कीजिए

हक़ीक़ी चेहरा कहीं पर हमें नहीं मिलता

सभी ने चेहरे पे डाले हैं मस्लहत के नक़ाब

  • शेयर कीजिए

बिछड़ के तुझ से अजब हाल हो गया मेरा

तमाम शहर पराया दिखाई देता है

  • शेयर कीजिए

सब मुमकिन था प्यार मोहब्बत हँसते चेहरे ख़्वाब-नगर

लेकिन एक अना ने कितने भोले दिन बर्बाद किए

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 4

 

"नजीबाबाद" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI