Meeraji's Photo'

Meeraji

1912 - 1949 | Mumbai, India

One of the founding fathers of modern Urdu nazm. Known for his mystical association with Indian metaphysical tradition. Died young.

One of the founding fathers of modern Urdu nazm. Known for his mystical association with Indian metaphysical tradition. Died young.

Meeraji

Ghazal 10

Nazm 35

Sher-o-Shayari 3

nagrī nagrī phirā musāfir ghar rastā bhuul gayā

kyā hai terā kyā hai merā apnā parāyā bhuul gayā

nagri nagri phira musafir ghar ka rasta bhul gaya

kya hai tera kya hai mera apna paraya bhul gaya

ġham ke bharose kyā kuchh chhoḌā kyā ab tum se bayān kareñ

ġham bhī raas aayā dil ko aur kuchh sāmān kareñ

gham ke bharose kya kuchh chhoDa kya ab tum se bayan karen

gham bhi ras aaya dil ko aur hi kuchh saman karen

'mīr' mile the 'mīrā-jī' se bātoñ se ham jaan ga.e

faiz chashma jaarī hai hifz un bhī dīvān kareñ

'mir' mile the 'mira-ji' se baaton se hum jaan gae

faiz ka chashma jari hai hifz un ka bhi diwan karen

 

Quote 5

हर खेल की दिलचस्पी वहीं तक है जब तक दिल ये समझे कि ये खेल सबसे पहले हमीं खेल रहे हैं।

  • Share this

जब दुनिया प्रेमी और पीतम को मिलने नहीं देती तो दिल का साज़ तड़प उठता है और क़ुदरत गीत बनाती है।

  • Share this

आए दिन दुनिया और ज़िंदगी के झमेले हमें अपने में ऐसा उलझाते हैं कि हमारे दिलों पर एक थकन बुरी तरह क़ाबू पा लेती है। हमें कोई बात भली नहीं मालूम होती। हम अपने कठिन हालात से पनपने के क़ाबिल नहीं रहते। ऐसे में गीत ही हैं कि हमें इन बंधनों से छुड़ाते हैं और ताज़ा-दम करके फिर से दुनिया और ज़िंदगी के झमेलों के मुक़ाबिल उन्हें जीत लेने को ला खड़ा करते हैं।

  • Share this

सबसे पहले आवाज़ बनी, आवाज़ के उतार-चढ़ाओ से सर बने, सुरों के संजोग से बोल ने जन्म लिया और फिर राग की डोरी में बंध कर बोल गीत बन गए।

  • Share this

गीत ही तो हमारी ज़िंदगी का रस हैं। जैसे धरती पर सावन आता है हमारी ज़िंदगी पर भी चार दिन के लिए बसंत रुत की बहार छा जाती है, कोई मन-मोहिनी सूरत मन को भा जाती है। जब दुनिया प्रेमी और पीतम को मिलने नहीं देती तो दिल का साज़ तड़प उठता है और क़ुदरत गीत बनाती है।

  • Share this

BOOKS 23

Audios 4

jaatrii

lab-e-juu-e-baare

samundar kaa bulaavaa

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

RELATED Blog

 

RELATED Poets

More Poets From "Mumbai"

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Speak Now